चिड़ियाघर में बाघिन के टुकड़े-टुकड़े, शिकारी फरार

 बुधवार, 26 सितंबर, 2012 को 14:01 IST तक के समाचार
चिड़ियाघर

ईटानगर का चिडियाघर शहर से आठ किलोमीटर दूर है

अरुणाचल प्रदेश में पुलिस अब तक उन शिकारियों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है जिन्होंने दो दिन पहले राजधानी ईटानगर के मुख्य चिड़ियाघर में घुस कर एक बाघिन की हत्या कर दी.

राज्य के वन विभाग ने इस चौंकाने वाली घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं.

चिड़ियागर के प्रभारी जोराम दोपुम ने बताया, “ये घटना सोमवार को भारतीय समयानुसार रात आठ से 10 बजे के बीच की है. शिकारियों ने बाघिन के कई हिस्से कर दिए लेकिन वे उन्हें वहां से ले जा नहीं सके.”

मृत बाघिन का पोस्ट मॉर्टम किया गया है.

सुरक्षित नहीं जानवर

"ये घटना सोमवार को भारतीय समयानुसार रात से 10 बजे के बीच की है. शिकारियों ने बाघिन के कई हिस्से कर दिए लेकिन वे उन्हें वहां से ले जा नहीं सके."

जोराम दोपुम, चिड़ियाघर के प्रभारी

बताया जाता है कि जब ये घटना हुई तो वहां ड्यूटी पर तैनात तीनों सुरक्षाकर्मी खाना खाने गए हुए थे. जब सुरक्षाकर्मी लौटे तो तब तक शिकारी बाघिन की हत्या कर वहां से फरार हो चुके थे.

दिसंबर 2006 में जन्मी ये बाघिन सिर्फ छह वर्ष की थी. ईटानगर का चिड़ियाघर 250 हेक्टेयर फैला हुआ है. इस चिड़ियाघर में अक्सर जानवर मारे जाते रहे हैं.

हाल ही में यहां त्रिपुरा के सैपाइझाला चिड़ियाघर से दो तेंदुए और तीन एशियाई काले भालू लाए गए हैं.

लेकिन चिड़ियाघर के भीतर कई बार शिकार की घटनाएं देखने को मिली है. फरवरी 2006 में तीन बाघों और एक तेंदुए को किसी ने अज्ञात व्यक्ति ने जहर दे दिया था. इस घटना में एक बाघ मारा गया था लेकिन दो अन्य बाघों और तेंदुए की जान बचा ली गई.

काला बाजारी

चीन में बाघ के अंगों की भारी मांग है

पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत में बाघों का शिकार एक आम समस्या रही है. बाघों के अंगों की चीन में भारी मांग हैं जहां उन्हें कई पारंपरिक दवाओं में इस्तेमाल किया जाता है.

जून 2006 में अधिकारियों ने असम में बड़ी मात्रा में बाघ के अंग मिले थे जिनमें उसकी हड्डियां और नाखून शामिल थे.

बाघ की सिर्फ 10 ग्राम हड्डियां काले बाजार में 200 डॉलर यानी 11 हजार रुपये तक बिकती हैं. इस तरह शिकारियों को एक ही बाघ के शिकार से ढाई लाख रुपये तक की आदमनी हो जाती है. बाघ की खाल की भी बड़ी मांग है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.