भारतीय निर्यात में चौथे माह भी गिरावट

निर्यात (फ़ाइल)
Image caption निर्यात के साथ आयात भी कम हो रहा है जिसे अर्थव्यवस्थी की कमज़ोरी माना जा रहा है.

भारत का निर्यात लगातार चौथे माह भी कम रहा है जिससे इस बात की आशंका जताई जा रही है कि वो अपने सालाना निर्यात लक्ष्य को हासिल नहीं कर सकेगा.

अगस्त माह में निर्यात दर 9.74 प्रतिशत रहा.

भारत ने इस साल निर्यात का वार्षिक लक्ष्य 360 अरब डॉलर रखा है.

अगर भारत का निर्यात कम हुआ है तो आयात में भी 5.08 फ़ीसद की कमी दर्ज की गई.

अगस्त में कुल आयात 37.95 अरब था, जबकि इसी अवधि में पिछले साल ये 40 अरब दर्ज किया गया था.

विकास दर

जानकारों का मानना है कि आयात में गिरावट इस बात को और ठोस तरीक़े से साबित कर देता है कि मुल्क में कच्चे माल की मांग कम हुई है, जो अर्थव्यवस्था की कमज़ोरी के कारण है.

भारत का विकास दर पहली तिमाही में साढ़े पांच फ़ीसद रहा.

हालांकि समाचार एजेंसी पीटीआई ने वाणिज्य सचिव एसआर राव के हवाले से कहा है कि सरकार ने जो नई विदेश वाणिज्य नीति की घोषणा की है उससे निर्यात में हो रही गिरावट को कम किया जा सका है.

सरकार ने दूसरी सुविधाओं के अलावा निर्यात पर लिए जाने वाले क़र्ज पर दो प्रतिशत सब्सिडी की समयसीमा को बढ़ा दिया है.

भारतीय निर्यातकों के संघ फीओ ने कहा है कि विदेश ख़ासकर पश्चिमी देशों में जारी आर्थिक संकट के कारण निर्यात लक्ष्य को पूरा करना मुश्किल होगा.

संबंधित समाचार