बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार अधिकारी निलंबित

 सोमवार, 1 अक्तूबर, 2012 को 20:01 IST तक के समाचार

शिकायत के अनुसार शशि भूषण एक युवती को रात भर घूरते रहे और अश्लील हरकतें की.

उत्तर प्रदेश सरकार ने ट्रेन में कथित बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार आईएएस अधिकारी शशि भूषण सुशील को निलंबित कर दिया है.

शशि भूषण इस समय उत्तर प्रदेश सरकार के तकनीकी शिक्षा विभाग में विशेष सचिव पद पर तैनात हैं. इससे पहले वह जिला मजिस्ट्रेट रह चुके हैं.

राज्य सरकार की एक विज्ञप्ति के अनुसार मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि महिलाओं के साथ अभद्रता करने वाले किसी भी व्यक्ति को छोड़ा नही जाएगा.

इससे पहले रेलवे पुलिस ने शशि भूषण को दिल्ली से लखनऊ आने वाली लखनऊ मेल ट्रेन में एक युवती के साथ अश्लील हरकत करने, छेड़छाड़ और बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था.

लखनऊ की रहने वाली एक महिला ने इस अधिकारी के खिलाफ चारबाग जीआरपी थाने में रपट लिखाई थी. यह महिला अपनी 25 वर्षीय बेटी के साथ एसी द्वितीय श्रेणी में सफ़र कर रही थी.

आरोप

आरोप है कि शशि भूषण युवती के सामने के ऊपर के बर्थ पर थे और रात भर उसको घूरते रहे और अश्लील हरकतें की.

युवती की माँ का कहना है कि जब उसने शशि भूषण को डांटा तो उसने पैर छूकर माफी मांगी और अपना परिचय देते हुए मामला समाप्त करने का अनुरोध किया.

लेकिन इस महिला ने ट्रेन के अंदर गार्ड और रेलवे पुलिस वालों से शिकायत कर दी.

शशि भूषण ने कथित तौर पर भागने की कोशिश की मगर सफल नही हुए. लखनऊ में ट्रेन रुकने पर आरोपी अफसर को जीआरपी थाने ले जाया गया.

वहां वरिष्ठ अधिकारी और मीडिया के लोग भी पहुँच गए. अंत में पुलिस ने महिला की रपट दर्ज कर शशि भूषण को गिरफ्तार कर लिया.

अदालत ने उन्हें 14 दिन के रिमांड पर जेल भेज दिया.

लेकिन आरोपी अफसर शशि भूषण का कहना है कि वह बेगुनाह है. शशि भूषण का कहना है कि लड़की ने उन्हें जातिसूचक शब्दों से संबोधित किया और इस पर आपत्ति करने पर झगडा हुआ था. शशि भूषण अनुसूचित जाति के अधिकारी हैं.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.