कौन है केजरीवाल का अगला निशाना?

अरविंद केजरीवाल
Image caption उम्मीद है कि केजरीवाल बुधवार को किसी नेता के बारे में बड़ा खुलासा करेंगे

सोनिया गाँधी के दामाद रॉबर्ड वाड्रा , विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद और भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी के बाद अरविंद केजरीवाल का अगला निशाना कौन होगा और उसका संबंध किस पार्टी के साथ होगा?

बुधवार को अपनी प्रेसवार्ता से कुछ घंटे पहले इंडिया अगेंस्ट करप्शन सदस्य अरविंद केजरीवाल ने अपने ट्वीट में कहा, “आज के पर्दाफाश को देखें. ये बहुत बड़ा हो सकता है.”

जब अरविंद केजरीवाल ने रॉबर्ड वाड्रा के खिलाफ डीएलएफ के साथ मिलकर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था, तब विपक्षी भाजपा ने जाँच की तो मांग की थी लेकिन बहुत शोर-शराबा नहीं मचाया. इस बीच हरियाणा सरकार ने वा़ड्रा को क्लीन चिट दे दी.

कांग्रेस ने आरोपों से इनकार किया और पूरी पार्टी वाड्रा के बचाव में उतर पड़ी.

भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी पर किसानों की जमीन हथियाने के आरोपों के बाद पार्टी ने केजरीवाल के खिलाफ अपने सुर तीखे किए.

पार्टी मुखपत्र ‘कमल संदेश’ मे सवाल उठाया गया है कि अरविंद केजरीवाल के पीछे विदेशी करेंसी का खेल तो नहीं?

अपने ताजा अंक में ‘कमल संदेश’ ने अपने संपादकीय में लिखा है, “केजरीवाल का खेल करेंसी का हो सकता है. अब जानना यह है कि यह करेंसी भारत की है या फिर भारत को कमजोर करने वाली शक्तियों की. सुपारी किसने दी है यह पता तो डॉक्टर मनमोहन सिंह को लगाना ही चाहिए.”

पत्रिका ने लिखा है कि केजरीवाल ने गडकरी के खिलाफ इसलिए आरोप लगाए क्योंकि वाड्रा पर आरोपों के बाद वो खुद को निष्पक्ष साबित करना चाहते थे.

‘कमल संदेश’ ने केजरीवाल पर तीखी भाषा का प्रयोग करते हुए लिखा है, “केजरीवाल है क्या? क्या उनके बारे में लोगों को नहीं मालूम है कि वह हो अन्ना आंदोलन का ‘ब्लैकमेलर’ या यूँ कहें कि अन्ना के साथ विश्वासघात करने वाला. जिस ‘अन्ना’ ने अरविंद केजरीवाल को अपने आंदोलन के आंचल का दूध पिलाकर ब़ड़ा किया, उसने उसी ‘अन्ना’ का साथ छोड़ अपना नाम निश्चित ही देश के विश्वासघातियों में शामिल कर लिया.”

कांग्रेस का भी हमला

लेकिन अरविंद केजरीवाल के प्रति इस नाराजगी में भाजपा के साथ कांग्रेस भी शामिल है.

कांग्रेस के मुखपत्र ‘कांग्रेस संदेश’ ने केजरीवाल के हमलों के भाजपा-शासित गुजरात और हिमाचल प्रदेश में होने वाले चुनावों से जोड़ा है.

पत्रिका ने लिखा है जो लोग सार्वजनिक जिंदगी में सदाचार और ईमानदारी की बात करते हैं, वो ये सब मीडिया की तवज्जो पाने के लिए कर रहे हैं.

कांग्रेस संदेश के मुताबिक, “ये भीड़-भड़काने वाले लोग हैं और कांग्रेस विरोधी शक्तियों का प्रतिनिधित्व करते हैं.”

संबंधित समाचार