स्वामी के गंभीर आरोप, राहुल का साफ़ इनकार

  • 1 नवंबर 2012
जनता पार्टी अध्यक्ष सुब्रमण्यम स्वामी
Image caption जनता पार्टी अध्यक्ष सुब्रमण्यम स्वामी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और महासचिव राहुल गांधी पर फ़र्ज़ी कंपनी चलाने का आरोप लगाया है.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके पुत्र और कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए जनता पार्टी अध्यक्ष सुब्रमण्यम स्वामी ने उन पर एक फ़र्ज़ी कंपनी चलाने और सरकारी सुविधाओं का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है.

लेकिन राहुल गांधी के कार्यालय ने एक वक्तव्य जारी कर स्वामी के आरोपों को बेबुनियाद और अपमानजनक बताया है.

वक्तव्य में ये भी कहा गया है कि प्रेस कॉन्फ़्रेंस में सुब्रमण्यम स्वामी के प्रेरित और ग़ैर-ज़िम्मेदाराना बयानों के खिलाफ़ राहुल गांधी हर क़ानूनी कदम उठाने के लिए स्वतंत्र हैं.

इसमें आगे लिखा है, "हम आपको सूचित करते हैं कि आपकी प्रेस कॉन्फ़्रेंस में साफ़तौर पर ग़ैरज़िम्मदेराना बयानों के खिलाफ़ हर मुमकिन क़ानूनी कदम उठाएंगे और हम क़ानून के तहत वो सारी कार्यवाई करेंगे जिससे ये सुनिश्चित हो सके कि आप जैसे व्यक्ति और आपके जैसे संगठन अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दुरुपयोग न कर पाए."

गुरुवार को नई दिल्ली में एक पत्रकार सम्मेलन में सुब्रमण्यम स्वामी ने दावा किया कि सोनिया और राहुल गांधी ने धोखेबाज़ी से एक सार्वजनिक ट्रस्ट को निजी संपत्ति में बदल दिया.

स्वामी का कहना था, "इन दोंनो कांग्रेसी नेताओं ने दिल्ली में एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटिड कंपनी की हेरल्ड हाउस नाम की 1600 करोड़ रूपए की संपत्ति महज़ 50 लाख रूपयों में हासिल की."

स्वामी के मुताबक राहुल और सोनिया गांधी की यंग इंडियन नाम की निजी कंपनी में 76 प्रतिशत हिस्सेदारी थी जिसका इस्तेमाल उन्होंने एसोसिएटेड जर्नल्स के टेकओवर और हेरल्ड हाउस को हासिल करने के लिए किया.

एसोसिएटेड जर्नल्स कंपनी भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने स्थापित की थी और ये नेशनल हेरल्ड और क़ौमी आवाज़ अख़बार छापती थी. अंग्रेज़ी भाषा का नेशनल हेरल्ड अब बंद हो चुका है.

आरोप

पीटीआई के मुताबिक सुब्रमण्यम स्वामी ने आरोप लगाया है कि सोनिया और राहुल गांधी ने सेक्शन 25 के तहत यंग इंडियन कंपनी बनाई जिसने एसोसिएटिड जर्नल्स को खरीदा.

कांग्रेस पार्टी ने एसोसिएटेड जर्नल्स कंपनी को 90 करोड़ से ज़्यादा का कर्ज़ दिया था. स्वामी का कहना है कि इंकम टैक्स एक्ट के तहत इस तरह का कर्ज़ ग़ैरक़ानूनी है क्योंकि एक राजनीतिक पार्टी व्यवसायिक काम के लिए कर्ज़ नहीं दे सकती.

स्वामी ने ये भी कहा कि राहुल गांधी ने 2009 के लोकसभा चुनावों के लिए नामांकन पत्र दाखिल करते समय यंग इंडियन में हिस्सेदारी की बात अपने शपथ पत्र में नहीं बताई थी.

साथ ही जनता पार्टी अध्यक्ष ने ये भी आरोप लगाया कि कांग्रेस पार्टी ने यंग इंडियन को कर्ज़ दिया और उनके पास इस बात के भी सबूत थे कि कंपनी की बैठकें सोनिया गांधी के आधिकारिक निवास, 10, जनपथ पर होती थीं.

उन्होंने कहा, "यंग इंडियन कंपनी अब दिल्ली स्थित हेरल्ड हाउस की मालिक है. कंपनी की इमारत की दो मंज़िलें पासपोर्ट ऑफ़िस को 30 लाख रुपए महीने के किराए पर दी गई है और इसका 76 प्रतिशत हिस्सा राहुल और सोनिया को जाता है."

स्वामी ने कंपनी मामलों के मंत्रालय और सीबीआई से इस मामले की जांच की मांग की है. कांग्रेस पार्टी ने सुब्रमण्यम स्वामी के आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि कुछ लोग ऐसे होते हैं जो "कहीं भी, कुछ भी" बोलते हैं. लेकिन भारतीय जनता पार्टी ने इन आरोपों की तुरंत जांच की मांग की है.

संबंधित समाचार