उड़ीसा- 27 खनन कंपनियों को नोटिस

 शुक्रवार, 2 नवंबर, 2012 को 23:58 IST तक के समाचार

खदान में इंजीनियर के साथ मजदूर

उड़ीसा सरकार ने राज्य में अनुमति से ज़्यादा खनन करने के मामले में 27 कंपनियों को नोटिस भेजा है जिनमें टाटा और एस्सेल भी शामिल हैं.

राज्य में खनिज पदार्थों की चोरी को लेकर चल रही जस्टिस एमबी शाह कमीशन की जांच से परेशान ओडिशा सरकार ने 27 कंपनियों से 57, 904 करोड़ रुपए वसूलने का फैसला किया है.

हालांकि जिन कंपनियों को नोटिस भेजा गया है उनकी तरफ से पूरे मामले पर कोई प्रतिक्रिया जाहिर नहीं की गई है. जबकि टाटा स्टील ने इस तरह के किसी भी नोटिस के मिलने से इनकार किया है.

वहीं, खदान कंपनियों के अधिकारियों ने सरकार के इस फैसले के खिलाफ अदालत में जाने का संकेत जरूर दिया है.

वसूली जाएगी तगड़ी रकम

2001-02 से लेकर 2009-10 के बीच हुई इस चोरी के आरोप में क्योंझर जिला जोड़ा के डिप्टी डायरेक्टर ऑफ़ माइंस ने कंपनियों को नोटिस जारी किया है.

टाटा के सात खानों में अनुमति से अधिक खुदाई के लिए 32, 000 करोड़ से भी अधिक राशि की वसूली की जाएगी.

जबकि एस्सेल माइनिंग से 4, 308 करोड़, आरपीसाओ माइंस से 3872 करोड़, सरदा माइंस से 2845 करोड़ और एमआईएसएल कंपनी से 2221 करोड़ रुपए वसूला जाएगा.

राज्य के इस्पात और खनन मंत्री रजनीकांत सिंह ने बीबीसी से कहा कि लोहे के पत्थर की खुदाई में धांधली सामने आते ही सरकार ने इसके खिलाफ कदम उठाए हैं.

"राज्य सरकार का यह फैसला अदालत में नहीं टिकेगा. अगर किसी कंपनी ने अनुमति से अधिक खुदाई की है तो इसके लिए सरकार ही जिम्मेदार है."

बी के मोहंती, राज्य के पूर्व खनिज निदेशक और खनिज मामलों के जानकार

उन्होंने कहा कि 27 कंपनियों को नोटिस जारी किया जाना इसी कड़ी का हिस्सा है. उन्होंने कहा कि इससे गैरकानूनी खुदाई पर काबू पाने के साथ ही राज्य कोष में अधिक पैसा आयेगा.

सरकार है जिम्मेदार

राज्य के पूर्व खनिज निदेशक और खनिज मामलों के जानकार बीके मोहंती का कहना है कि राज्य सरकार का यह फैसला अदालत में नहीं टिकेगा. उन्होंने कहा कि अगर किसी कंपनी ने अनुमति से अधिक खुदाई की है तो इसके लिए सरकार ही जिम्मेदार है.

मोहंती का कहना है कि सरकार ने अधिक खनिज के लिए ट्रांसपोर्ट परमिट जारी किया और उस पर रॉयल्टी भी वसूला.

केंद्र सरकार ने शाह कमीशन को इस मामले में जांच का जिम्मा सौंपा है जिसकी पांच-सदस्यीय टीम फिलहाल राज्य के दौरे पर है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.