26/11 के दोषियों को सज़ा दिलाऊंगा: इमरान ख़ान

इमरान ख़ान
Image caption इमरान ख़ान ने कहा कि अब अमरीका को पाकिस्तान पर ड्रोन हमले रोक देने चाहिए.

पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी और पाकिस्तान की तहरीक-ए-इंसाफ़ पार्टी के प्रमुख इमरान ख़ान ने कहा है कि वो मुंबई पर हुए 26 नवंबर 2008 के हमलों के कसूरवारों का सामना इंसाफ़ से करवाएंगे.

भविष्य में पाकिस्तान में प्रधानमंत्री पद के मज़बूत दावेदार माने जा रहे इमरान ख़ान ने भारतीय समाचार पत्र 'मेल टुडे' से इंटरव्यू में ये कहा है.

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ यानी पीटीआई के नेता दिल्ली के उपनगर गुड़गांव में वर्ल्ड इकोनॉमिक फ़ोरम में हिस्सा लेने भारत आए हुए हैं.

इमरान ख़ान ने भरोसा दिलाया कि प्रधानमंत्री बनने की सूरत में वे ये सुनिश्चित करेंगे कि पाकिस्तान की धरती से कोई आतंकवाद ना पैदा हो.

इमरान ख़ान ने मेल टुडे को बताया, “भारत को समझना चाहिए कि कानूनी प्रक्रिया में समय लगता है. लेकिन मैं मुंबई पर हमला करने वालों का सामना इंसाफ़ से करवाऊंगा. हमें क़ानून का पालन करना चाहिए.”

'पाकिस्तान को बचाने के लिए जिहाद'

भारत के साथ रिश्तों के बारे में उन्होंने कहा कि वे एक नई शुरूआत के पक्ष में हैं.

उन्होंने कहा, “बीते सालों में हमारे बीच के रिश्ते सारे उपमहाद्वीप के लिए हानिकारक रहे हैं. हम एक कदम आगे बढ़ाते हैं और दो क़दम पीछे खींच लेते हैं. मुंबई की घटना घटी और हम फिर वहीं के वहीं पहुंच गए. ”

अपने राजनीतिक दल पीटीआई को इमरान ख़ान ने पाकिस्तान का इकलौता लोकतांत्रिक दल बताते हुए कहा कि वे अब एक लोकतांत्रिक सूनामी की तैयारी कर रहे हैं.

इमरान ने भारतीय अख़बार को बताया कि सत्ता में आने के बाद वे पाकिस्तान को बचाने के लिए जिहाद की घोषणा करेंगे और इसके तहत वे सभी चरमपंथी गुटों से हथियार डलवा देंगे.

बराक ओबामा के दोबारा राष्ट्रपति बनने पर इमरान ने उम्मीद जताई कि अमरीका अब पाकिस्तान पर ड्रोन हमले बंद करके शांति को एक और अवसर देगा.

इसके अलावा वर्ल्ड इकोनॉमिक फ़ोरम के दौरान इमरान ने पत्रकारों को बताया, “पाकिस्तान चाहेगा कि अब अफ़गानिस्तान में हिंसा में कमी आए और पाकिस्तान के कबायली इलाकों में ड्रोन हमले बंद हों.”

संबंधित समाचार