सीबीआई और सीवीसी को संवैधानिक दर्जा मिले: विनोद राय

 गुरुवार, 8 नवंबर, 2012 को 09:25 IST तक के समाचार
विनोद राय

सीएजी विनोद राय अपनी सनसनीखेज रिपोर्टों की वजह से सुर्खियों में रहे हैं.

भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) विनोद राय ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) को संवैधानिक दर्जा देने की मांग की है.

कोयला ब्लॉक और टूजी स्पेक्ट्रम आवंटन में कथित अनियमितताओं को उजाकर करने वाले विनोद राय का कहना है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रभावी औजार बनाने के लिए सीबीआई और सीवीसी को संवैधानिक दर्जा देना जरूरी है.

राजधानी दिल्ली से सटे गुड़गांव में विश्व आर्थिक मंच की बैठक में विनोद राय ने कहा, ''यदि आप वाकई चाहते हैं कि सीबीआई और सीवीसी जैसी संस्थाएं वाकई काम करें तो आपको जोखिम लेना होगा, उन्हें संवैधानिक संस्थाओं का दर्जा देने की हिम्मत दिखानी होगी.''

'सीबीआई और सीवीसी स्वतंत्र नहीं'

सीएजी विनोद राय ने कहा कि सीबीआई और सीवीसी काम करने के लिए स्वतंत्र नहीं है और इसी वजह से लोग इन्हें 'सरकार का नौकर' कहते हैं.

उन्होंने कहा, ''यदि लोकपाल से उम्मीद की जाती है कि वो स्वायत्तता और पूरी आजादी से काम करे तो आपके पास संवैधानिक जनादेश की गारंटी होनी होगी.''

सीबीआई का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि सीबीआई की कार्यप्रणाली स्वतंत्र नहीं है और सीवीसी की भी यही हालत है.

सीएजी की रिपोर्ट में सरकारी खज़ाने को हुए नुकसान के बारे में आकलन संबंधी एक सवाल के जबाव में उन्होंने कहा, ''तथ्यों के मामले में कोई हमें गलत साबित नहीं कर सकता है.''

सीएजी की रिपोर्ट में कहा गया था कि कोयला ब्लॉक और टूजी स्पेक्ट्रम आवंटन में सरकारी खजाने को काफी नुकसान पहुंचा है.

लेकिन सरकार सीएजी के इन दावों से इनकार करती रही है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.