पाकिस्तान ने नहीं मांगा कसाब का शव

 बुधवार, 21 नवंबर, 2012 को 10:50 IST तक के समाचार

पुणे के यरवडा जेल में कसाब को फांसी दी गई.

अजमल कसाब को फांसी दे दी गई है.

चूंकि पाकिस्तान सरकार की ओर से शव की मांग नहीं की गई है उनके शव को पुणे की यरवडा जेल के परिसर में ही दफ़ना दिया गया है.

हालांकि भारत सरकार ने कहा है कि अगर पाकिस्तान की ओर से शव की मांग की जाएगी तो शव वहाँ भेज दिया जाएगा.

इससे पहले मुंबई हमले में शामिल नौ अन्य लोगों के शव को भी लेने से पाकिस्तान ने इनकार कर दिया था और बहुत दिनों के इंतज़ार के बाद उन्हें भारत में ही किसी स्थान पर दफ़नाया गया था.

चिट्ठी भी नहीं ली

"हमारे विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने उनसे संपर्क किया है. पाकिस्तान सरकार ने ख़त लेने से इनकार कर दिया, जिसके बाद हमने उन्हें फैक्स भेजा है"

सुशील कुमार शिंदे, केंद्रीय गृह मंत्री, भारत सरकार

इस बारे में केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे से जब पूछा गया तो उनका जवाब था,“अगर पाकिस्तान सरकार कसाब के शव की मांग करती है तो हम उन्हें शव सौंप देंगे.”

शिंदे के मुताबिक पाकिस्तान को कसाब को फांसी दिए जाने की सूचना भेजी गई थी. हालांकि पाकिस्तान ने अधिकारिक तौर पर ख़त लेने से इनकार कर दिया. जिसके बाद उन्हें फैक्स के जरिए सूचना भेजी गई.

गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा, “हमारे विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने उनसे संपर्क किया है. पाकिस्तान सरकार ने ख़त लेने से इनकार कर दिया, जिसके बाद हमने उन्हें फैक्स भेजा है.”

केंद्रीय विदेश मामलों के मंत्री सलमान खुर्शीद ने भी कहा है कि पाकिस्तान को समय से इस पूरी प्रक्रिया की जानकारी दी गई.

खुर्शीद ने कहा,“हमारे अधिकारियों ने पाकिस्तान सरकार को कसाब को फांसी दिए जाने की जानकारी भेज दी है. हालांकि हमें अब तक कोई जवाब नही मिला है.” सलमान खुर्शीद ने उम्मीद जताई है कि पाकिस्तान इस मसले पर भारत के साथ सहयोगात्मक रवैया अपनाएगा.

इससे पहले मुंबई हमले के दौरान मारे गए नौ चरमपंथियों के शव भी पाकिस्तान सरकार ने लेने से इनकार कर दिया था.

तब राज्य सरकार ने इनके शव को साल भर से भी ज्यादा समय तक सुरक्षित रखने के बाद जनवरी, 2010 में अज्ञात स्थान पर दफनाया था. सुरक्षा कारणों से राज्य सरकार ने इसकी जानकारी अप्रैल, 2010 में दी.

तब मुंबई के कई कब्रगाहों ने भी इन चरमपंथियों के शव को दफनाने से इनकार कर दिया था.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.