भारत की मिसाइल रोधी मिसाइल सफल

 शुक्रवार, 23 नवंबर, 2012 को 18:08 IST तक के समाचार
मिसाइल

भारत लंबे समय से एक विस्तृत बैलिस्टिक मिसाइल रोधी कार्यक्रम पर काम कर रहा है.

उड़ीसा के तट पर भारत ने शुक्रवार को अपनी पहली बैलिस्टिक मिसाइल रोधी सुपरसॉनिक मिसाइल का सफल परिक्षण किया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने रक्षा अनुसंधान विभाग के प्रवक्ता रवि कुमार गुप्ता के हवाले से यह जानकारी दी है.

समाचार के अनुसार करीब 12.52 मिनट पर इंटरसेप्टर मिसाइल ने आक्रामक मिसाइल के तौर पर दागी गयी एक बैलिस्टिक मिसाइल को मार गिराया.

भारत लंबे समय से एक विस्तृत बैलिस्टिक मिसाइल रोधी कार्यक्रम पर काम कर रहा है.

समाचार एजेंसी के अनुसार यह परिक्षण इसलिए भी महत्वपूर्ण था क्योंकि इस परिक्षण एक बड़ी तेज़ी से आती हुई बैलिस्टिक मिसाइल के उड़ान मार्ग का सही सही अध्यन कर उसे उचित ऊँचाई पर ही रोकना था.

शत्रु मिसाइल के तौर पर भारत की जाँची परखी हुए और सेना के लिए काम कर रही पृथ्वी श्रेणी की एक मिसाइल का इस्तेमाल किया गया था.

यह पृथ्वी मिसाइल भारतीय समय के अनुसार करीब 12.52 पर चांदीपुर में एक मोबाईल लॉंचर से छोडी गयी थी.

चांदीपुर से कुछ दूरी पर मौजूद व्हीलर टापू से राडार के माध्यम से शत्रु मिसाइल की क्षमता और उड़ान का मार्ग भांपने के बाद इस सुपरसॉनिक ने ज़मीन से बहुत ऊपर ही बैलिस्टिक मिसाइल को हवा में ही मार गिराया.

इस मिसाइल रोधी मिसाइल की लंबाई 7.5 मीटर है और यह अत्याधुनिक कम्प्यूटरों और नेविगेशन सिस्टम से लैस है.

यह इस प्रणाली का दूसरा परिक्षण था और फ़रवरी में किया गया इसका पहला परिक्षण भी सफल रहा था.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.