गडकरी के विरोध के बाद जेठमलानी भाजपा से निलंबित

राम जेठमलानी
Image caption राम जेठमलानी कहते हैं उन्हें बीजेपी से निकालने के लिए हिम्मत चाहिए

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष नितिन गडकरी का इस्तीफा माँगने और सीबीआई के नए निदेशक की नियुक्ति को सही ठहराने वाले भाजपा सदस्य और मशहूर वकील राम जेठमलानी को पार्टी से निलंबित कर दिया गया है.

समाचार एजेंसियों के अनुसार जेठमलानी ने रविवार को चुनौती दी थी कि पार्टी में किसी में इतनी हिम्मत नहीं है कि उनके खिलाफ कार्रवाई कर सके.

नितिन गडकरी पर भ्रष्टाचार संबंधी आरोप लगने के बाद राम जेठमलानी, पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा, नेता बने फिल्म स्टार शत्रुघ्न सिन्हा ने अलग-अलग बयानों में कहा है गडकरी को पार्टी अध्यक्ष के पद से हट जाना चाहिए.

हाँलाँकि हाल में लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी का समर्थन किया था.

रविवार को एक बयान में भाजपा प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा, "राम जेठमलानी की पार्टी सदस्यता भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दी है. उनके बयान से कांग्रेस को मदद मिली है और उनके बयान को अनुशासनहीनता के दायरे में मानती है. आज उन्होंने फिर चुनौती दी कि उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं हो सकती."

भाजपा के संसदीय बोर्ड की बैठक सोमवार को होगी और उनके निष्कासन की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए पार्टी आगे चर्चा करेगी.

भाजपा को बार-बार फटकार लगाई

हाल में एक संवाददाता सम्मेलन में राम जेठमलानी ने कहा था कि गडकरी को न हटाए जाने की वजह से पार्टी को पहले ही बहुत नुकसान हो चुका है और इस नुकसान को फैलने से रोकना चाहिए.

उन्होंने कहा था कि उन्होंने पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को इस बारे में एक चिट्ठी लिखी है.

जब केंद्रीय जाँच ब्यूरो के नए निदेशक रणजीत सिन्हा की नियुक्ति का मुद्दा उठा तो राम जेठमलानी ने फिर पार्टी को फटकार लगाई.

उन्होंने पार्टी अध्यक्ष गडकरी को एक पत्र में लिखा,"मुझे ये पढ़कर हैरानी हुई है कि भाजपा ने रणजीत सिन्हा की नियुक्ति पर प्रधानमंत्री और कांग्रेस पार्टी पर धावा बोला है. मुझे अफसोस इसलिए है क्योंकि ये आलोचना उचित तथ्यों पर आधारित नहीं है."

भाजपा ने शनिवार को जेठमलानी के खिलाफ कार्रवाई करने का संकेत दिया था.

भाजपा प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा था, "जेठमलानी भाजपा अध्यक्ष के खिलाफ बयान देते रहे हैं और अब उन्होंने विपक्ष के दो नेताओं के खिलाफ बयान दिया है. हम उनके आरोपों का खंडन करते हैं. पार्टी ने उनके बयानों का गंभीरता से संज्ञान लिया है और सही समय पर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी."

संबंधित समाचार