गुजरात चुनाव: नरेंद्र मोदी बनाम केशुभाई

  • 13 दिसंबर 2012
नरेंद्र मोदी
Image caption केशुभाई पटेल नरेंद्र मोदी के बड़े आलोचक रहे हैं

गुजरात में नरेंद्र मोदी की सत्ता बदलेगी या वर्ष 2001 से राज्य के मुख्यमंत्री पद पर विराजमान मोदी एक बार फिर भाजपा की सरकार बनाएँगे, इसका फ़ैसला तो 20 दिसंबर को मतगणना के बाद होगा.

इसी क्रम में गुरुवार को राज्य विधानसभा के लिए पहले चरण का मतदान होगा, जिसकी तैयारी पूरी हो चुकी है.

गुरुवार को पहले चरण में 87 सीटों पर मत डाले जाएँगे. राज्य के 1.81 करोड़ मतदाता 846 उम्मीदवारों के भाग्य का फ़ैसला करेंगे.

इस चरण में सौराष्ट्र के सात ज़िलों के 48 विधानसभा क्षेत्रों, दक्षिणी गुजरात के पाँच ज़िलों की 35 सीटों और अहमदाबाद ज़िले के चार विधानसभा क्षेत्रों में मत डाले जाएँगे.

प्रमुख उम्मीदवार

इन सीटों में से सुरेंद्रनगर, राजकोट, जामनगर, पोरबंदर, अमरेली और भावनगर को काफ़ी अहम माना जा रहा है. राजनीतिक पर्यवेक्षकों की इस पर नज़र है कि केशुभाई पटेल इन क्षेत्रों में अपना दम दिखा पाते हैं या नहीं.

इस चरण में जिन राजनेताओं के भाग्य का फ़ैसला होना है, उनमें केशुभाई पटेल, विधानसभा अध्यक्ष गणपत वासव, गुजरात भाजपा अध्यक्ष आरसी फालदू, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अर्जुन मोढ़वाडिया और विपक्ष के नेता शक्तिसिंह गोहिल शामिल हैं.

इनके अलावा राज्य के कई मंत्री भी चुनावी मैदान में हैं. इनमें प्रमुख हैं- वाजूभाई वाला, वसुबेन त्रिवेदी, नरोत्तम पटेल, मंगूभाई पटेल, पुरुषोत्तम सोलंकी, किरीट सिंह राणा, दिलीप संघानी, कनुभाई भलाला, मोहन कुन्दारिया और रंजीत गिलीटवाला.

इस चरण में भाजपा ने सभी 87 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं, कांग्रेस ने 84 और केशुभाई पटेल की गुजरात परिवर्तन पार्टी ने 83 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं.

दूसरे चरण का मतदान 17 दिसंबर को होगा. राज्य विधानसभा में कुल 182 सीटें हैं. मतगणना 20 दिसंबर को होगी.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार