मणिपुर:अभिनेत्री से छेड़छाड़ पर प्रदर्शन, पत्रकार की मौत

  • 24 दिसंबर 2012
Image caption हाल के दिनों में छेड़छाड़ की घटनाएं आम होती जा रही हैं.

पूर्वोत्तर भारत के मणिपुर राज्य की राजधानी इंफाल में एक अभिनेत्री से कथित छेड़छाड़ के मामले में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस की ओर से की गई फायरिंग में एक निजी टेलीविजन चैनल के पत्रकार की मौत हो गई है.

प्रदर्शनकारी छेड़छाड़ के मामले में एक नगा चरमपंथी की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे. रविवार को फिल्म संगठनों द्वारा आयोजित अनिश्चितकालीन हड़ताल का दूसरा दिन था.

पुलिस के मुताबिक इंफाल के थांगीबांद इलाके में प्रदर्शनकारी हिंसा पर उतर आए. इसके बाद पुलिस ने गोलियां चलाईं, जिसमें प्राइम टाइम चैनल के पत्रकार थांगजॉम दिशामनिक की मौत हो गई. उन्हें सीने में गोली लगी और इलाज के दौरान उनकी अस्पताल में मौत हो गई.

उनकी मौत की खबर फैलते ही मणिपुर घाटी इलाके के कई हिस्सों खासकर इंफाल पूर्वी एवं इंफाल पश्चिमी जिलों में हिंसा फैल गई. प्रदर्शनकारियों ने सारे प्रमुख रास्ते बंद कर दिए और जब पुलिस ने उन्हें हटाने की कोशिश की, तो उन्होंने पथराव किया.

दोबारा कर्फ्यू

इसके बाद दो जिलों में 16 घंटों के लिए दोबारा कर्फ्यू लगा दिया गया गया. इन जिलों में सुबह ही कर्फ्यू लगाया गया था. अलग अलग जगहों से हिंसा की खबरें आने के बाद प्रशासन ने दोबारा कर्फ्यू लगाए जाने की घोषणा की.

राज्य के गृह मंत्री ने हॉस्पिटल का दौरा कर थांगजॉम दिशामनिक की मौत पर संवेदना व्यक्त की.

उन्होंने हड़ताल करने वालों, खासकर मणिपुर फिल्म फोरम (एमएफएफ) से शांत रहने की अपील की और कहा कि मणिपुरी ऐक्ट्रेस से छेड़छाड़ करने वाले व्यक्ति को खोजने और गिरफ्तार करने की कोशिश जारी है.

प्राइम टीवी चैनल के मुख्य संपादक मंजीत मंहत ने इस घटना पर कहा, “यहाँ पत्रकारों के लिए काम करना बहुत मुश्किल है. यहाँ पर ढेर सारे राजनीतिक दल हैं और उनका लगातार दबाव रहता है. फिर जो यहाँ स्थानीय चरमपंथी दल हैं उनसे भी हमें धमकियाँ मिलती हैं, चाहे वो एनएससीएन के दो धड़े हों, अल्फा हो, एनडीएफबी या फिर छोटे-मोटे दल. इनके लिए पत्रकार सॉफ्ट टार्गेट हैं. उत्तर-पूर्व में पिछले सालों में कितने पत्रकार मारे जा चुके हैं, इसका कोई हिसाब नहीं है.”

मामला

प्रदर्शनकारी अभिनेत्री मामोको के साथ कथित छेड़छाड़ को लेकर नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नगालैंड-इसाक मुइवा गुट (एनएससीएन-आईएम) के चरमपंथी की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे.

महत्वपूर्ण है कि 18 दिसंबर को अभिनेत्री मोमोको एक संगीत कार्यक्रम का संचालन कर रही थीं, उसी दौरान एक व्यक्ति ने कथित रूप से उनके साथ छेड़छाड़ की. जब दो कलाकारों ने अभिनेत्री को बचाने का प्रयास किया, तब उन पर पर गोलियां चलाईं थीं.

संबंधित समाचार