विकास की होड़ में बिहार ने गुजरात को पछाड़ा

Image caption ग्यारहवीं विकास योजना में बिहार अव्वल रहा.

विकास के लिए मशहूर गुजरात को पछाड़ते हुए बिहार भारत में सबसे तेज़ विकास करने वाला राज्य बन गया है.

बिहार ने 2006-2010 की ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना के दौरान बिहार ने 10.9 प्रतिशत की दर से विकास किया जबकि गुजरात के विकास की गति इस दौरान धीमी पड़ी और ये दर 9.3 प्रतिशत रही.

बिहार की विकास दर 2001 से 2005 के दौरान 2.9 प्रतिशत रही थी जबकि इस दौरान गुजरात की विकास दर 11 प्रतिशत थी.

आर्थिक विश्लेषकों के अनुसार चूँकि बिहार की विकास दर पहले से ही इतना कम थी इसीलिए वहाँ विकास की दर में ये तेज़ी बाक़ी जगहों से ज़्यादा रही है.

वर्ष 2001 से 2005 के दौरान गुजरात देश का सबसे तेज़ विकास दर वाला राज्य था और इस दौरान गुजरात की विकास दर 11 प्रतिशत रही थी.

बिहार 2006-2010 के दौरान गुजरात से ही आगे नहीं निकला बल्कि हरियाणा, महाराष्ट्र और उड़ीसा भी विकास दर में गुजरात से आगे निकल गए.

गौरतलब है कि तेज़ी से विकास करने वालों 17 राज्यों में से गुजरात ही ऐसा राज्य है जिसकी विकास दर में पहले के मुकाबले कमी आई है.

छत्तीसगढ़ में 2006 से 2010 के दौरान 10 प्रतिशत की गति से विकास हुआ, हरियाणा में 9.7 प्रतिशत की विकास दर रही, महाराष्ट्र की विकास दर 9.6 प्रतिशत रही जबकि उड़ीसा की विकास दर 9.4 प्रतिशत रही.

ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना के तहत शीर्ष पांच राज्यों की औसत विकास दर 9.10 प्रतिशत रही जबकि दसवीं पंचवर्षीय योजना में ये सात प्रतिशत रही थी और नौवीं पंचवर्षीय योजना में ये दर पांच प्रतिशत रही थी.

संबंधित समाचार