ममता पर अभद्र टिप्पणी से सीपीएम की किरकिरी

  • 28 दिसंबर 2012
Image caption सीपीएम नेता के बयान से पार्टी की फजीहत.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर सीपीएम नेता की अभद्र टिप्पणी से देश भर में सीपीएम की किरकिरी हो गई है.

वाम नेता अनिसुर रहमान ने ममता बनर्जी पर गुरुवार को एक रैली के दौरान भद्दी टिप्पणी की थी.

उन्होंने ममता बनर्जी से पूछा था कि आखिर वो यौन शोषण के मुआवज़े के तौर पर खुद कितना पैसा लेंगी.

अनिसुर ने ये बयान ममता बनर्जी की उस घोषणा के बाद दिया था जिसमें मुख्यमंत्री ने बलात्कार पीड़ित को 20 हज़ार रुपए मुआवज़ा देने की घोषणा की थी.

अनिसुर पश्चिम बंगाल के उत्तरी दिनाजपुर जिले में एक रैली को संबोधित कर रहे थे.

हालांकि इस बयान पर बावल मचने पर अनिसुर ने माफी मांग ली थी.

तमाम महिला संगठनों ने जहां इस बयान को सभी महिलाओं के लिए अपमानजनक क़रार दिया है वहीं भारतीय जनता पार्टी ने सीपीएम से इस बाबत जवाब भी मांगा है.

हालांकि सीपीएम के आला नेताओं ने कड़ा रुख अख्तियार किया है और अनिसुर रहमान को जमकर फटकार लगाई है.

टिप्पणी पर बवाल

बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने मीडिया से बातचीत में कहा कि वो इस अभद्र टिप्पणी की निंदा करते हैं.

उन्होंने सीपीएम नेता बृंदा करात और सीताराम येचूरी से टिप्पणी पर जवाब भी मांगा है.

रविशंकर प्रसाद ने कहा, महिला सुरक्षा और सम्मान देश के केंद्र में है और किसी राजनेता की इस तरह की अभद्र टिप्पणी ठीक नहीं है.

गृह राज्य मंत्री आरपीएन सिंह ने भी सीपीएम नेता के बयान की निंदा की है.

उन्होंने कहा कि राजनेताओं को किसी भी तरह की व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि नेताओं को गंभीरता से अपना बयान देना चाहिए.

सीपीएम की वरिष्ठ नेता बृंदा करात ने कड़े शब्दों में अनिसुर रहमान को फटकार लगाई है.

बृंदा करात ने कहा है कि अनिसुर रहमान के बयान को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि सीपीएम नेता का बयान पार्टी की संस्कृति और परंपरा के खिलाफ है.

संबंधित समाचार