मुसीबत में हों तो डायल कीजिए 181 नंबर

 सोमवार, 31 दिसंबर, 2012 को 13:18 IST तक के समाचार

181 नंबर पर महिलाएं मदद माँग सकती हैं.

दिल्ली सरकार आज से मुसीबत में फँसी महिलाओं के लिए चौबीस घंटे का हेल्प लाइन नंबर 181 शुरू करने जा रही है.

इस नंबर को आज से ही शुरु हो जाना था ,पर तकनीकी कारणों से यह अभी शुरु नही हो सकी है.

यह नंबर मुख्यमंत्री कार्यालय से संचालित किया जाएगा और शहर के सभी पुलिस स्टेशनों से जुड़ा रहेगा.

इस नंबर को लैंडलाइन और मोबाइल तरह के फोन से मिलाया जा सकता है.

पिछले सप्ताह 23 वर्षीय युवती के सामूहिक बलात्कार के बाद मचे बवाल के बाद मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने जल्द ही इस तरह की हेल्प लाइन शुरू करने का वादा किया था.

संचार मंत्रालय ने इससे पहले मुसीबतज़दा महिलाओं के लिए 167 नंबर आवंटित किया था लेकिन शीला दीक्षित ने उनसे ऐसा नंबर आवंटित करने का अनुरोध किया जिसे आसानी से याद किया जा सके.

बलात्कार की घटना के बाद दिल्ली में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर भारी विरोध प्रदर्शन हुए है.

मंत्रालय ने उनकी बात मानते हुए 181 नंबर का अनुमोदन कर दिया. पिछले दो सालों में पहली बार टेलीकॉम मंत्रालय ने तीन अंकों का यह नंबर एलॉट किया है.

इसी तरह मुंबई में भी 103 नंबर डायल कर मुसीबत में फंसी महिलाएं शिकायत कर सकती हैं.

पहले यह नंबर सिर्फ शहरों में मोबाइल फोनों से डायल किया जा सकता था.लेकिन,अब महाराष्ट्र सरकार ने बीएसएनएल से अनुरोध किया है कि वह यह सुनिश्चियत करें कि पूरे महाराष्ट्र से महिलाएं अपने मोबाइल फोन से इस नंबर पर संपर्क कर पाएं चाहे वह शहरों में रह रही हों या गांवों में.

उधर, शिवसेना की युवा सेना ने भी परेशानी में धिरी महिलाओं के लिए पहले से ही एक हेल्प लाइन शुरू कर रखी है.

जनरल पनाग की पहल

भारतीय सेना के वरिष्ठ सेवानिवृत्त अधिकारी लेफ़्टिनेंट जनरल एच एस पनाग ने भी ट्विटर पर यह कहते हुए अपना मोबाइल नंबर सार्वजनिक करते हुए कहा है कि वह परेशानी में घिरी महिला की मदद के लिए या तो खुद सामने आएंगे या किसी को उसकी मदद के लिए तुरंत भेजेंगे.

जनरल पनाग जानी मानी फिल्म अभिनेत्री गुल पनाग के पिता हैं.

उनकी इस मुहिम के बाद कई शहरों से करीब 700 लोगों ने मुसीबत में घिरी महिलाओं की मदद के लिए जरूरत पड़ने पर आगे आने की पेशकश की है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.