बलात्कार पीड़ित को कुचलना चाहते थे अभियुक्त

 बुधवार, 2 जनवरी, 2013 को 14:39 IST तक के समाचार
बलात्कार पर विरोध

इस बलात्कार पर पूरे देश में लोगों में गुस्सा है

दिल्ली सामूहिक बलात्कार कांड के छह अभियुक्तों ने बलात्कार के बाद पीड़ित को बस से फेंकने के बाद कुचलने की कोशिश की थी लेकिन उसके दोस्त ने उसे बचा लिया.

गुरुवार को मुकदमा शुरू होने से पहले दिल्ली पुलिस को इस मामले में अपनी चार्जशीट पेश करनी है.

इसी बीच पूरे देश को झकझोरने वाले इस बर्बर कांड से जुड़ी कुछ और जानकारियां सामने आ रही हैं.

फिजियोथेरेपी की पढ़ाई कर रही ये लड़की 16 दिसंबर को एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर दोस्त के साथ साकेत इलाके के एक मॉल से 'लाइफ ऑफ पाई' फिल्म देख कर रही लौट रही थी.

ये लोग मुनिरका से एक बस में चढ़ गए. उन्हें नहीं पता था कि वो बस गैर कानूनी तरीके से सड़क पर चल रही थी.

चार्जशीट कल

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि लड़की और उसका दोस्त जब बस में चढ़े तो वहां छह लोग बैठे हुए थे. उनमें से कोई भी सवारी नहीं थी और वो आपस में एक दूसरे को जानते थे.

अभियुक्तों में से एक ने लड़की पर फब्तियां कसीं जिसका लड़की के दोस्त ने विरोध किया और उन लोगों से उसकी कहा सुनी होने लगी.

सूत्रों ने बताया, “उन्होंने लड़के से कहा कि वो लड़की को कहां ले जा रहा है और इस बात पर उसकी कहा सुनी होने लगी. पहले उन्होंने लोहे की रॉड से लड़के पर हमला किया और जब लड़की ने उसे बचाने की कोशिश की तो उन्होंने लड़की को भी पीटा. जब लड़की से इसका विरोध किया तो उन्हें गुस्सा आ गया और उसका बलात्कार किया गया.”

लड़की को बस से फेंकने के बाद बस ड्राइवर ने उसे कुचलने की कोशिश की. लेकिन उसके दोस्त ने उसे अचानक खींच लिया और बचा लिया.

बताया जाता है कि लड़की ने तीन अभियुक्तों को काटा भी, लेकिन अभियुक्त संख्या में ज्यादा थे, इसलिए उन दोनों का कोई बस नहीं चला. सूत्रों के अनुसार अभियुक्तों के शरीर पर काटने के निशान पुलिस का चार्जशीट का हिस्सा होंगे.

सूत्रों ने बताया कि 50 पन्नों की चार्जशीट 3 जनवरी को फास्ट ट्रैक अदालत के सामने पेश की जाएगी. इस चार्जशीट के साथ सैकड़ों पन्नों का परिशिष्ट भी होगा.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.