स्टालिन होंगे करुणा के उत्तराधिकारी!

 सोमवार, 7 जनवरी, 2013 को 16:11 IST तक के समाचार

स्टालिन को अपना उत्तराधिकारी बनाना चाहते हैं डीएमके प्रमुख

डीएमके प्रमुख एम करुणानिधि ने अपने छोटे बेटे एमके स्टालिन को अपना उत्तराधिकारी बनाने की इच्छा जताई है.

करुणानिधि ने जब से स्टालिन को अपना उत्तराधिकारी बनाने का संकेत दिया था तबसे मीडिया बार बार इस सवाल को दोहरा रहा था कि आखिर इस बात में कितनी सच्चाई है.

हालांकि, इस संकेत ने करुणानिधि की पारिवारिक मुश्किल जरूर बढ़ा दी है. उनके बड़े बेटे एलके अलागिरी इस बात से पहले ही नाराज़ चल रहे हैं.

चेन्नई में मीडिया से बातचीत में करुणानिधि ने कहा, “अगर पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए नाम प्रस्तावित करने का मौका मिला तो इस पद के लिए सिर्फ अपने छोटे बेटे स्टालिन का नाम प्रस्तावित करूंगा."

उन्होंने कहा, “पार्टी महासचिव के अंभाजगन ने पहले ही उनका नाम प्रस्तावित कर दिया था, तो इस तरह से मेरा नंबर दूसरा होगा.”

पिछले कई वर्षों में ये पहला मौका है जब करुणानिधि ने इस तरह से खुल कर स्टालिन का नाम पार्टी प्रमुख के तौर पर लिया है.

डीएमके प्रमुख ने मीडिया पर बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश करने का भी आरोप लगाया.

उन्होंने कहा कि उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया गया. करुणानिधि ने कहा, “मैंने कहा था कि स्टालिन उनका सामाजिक कार्यभार संभालेंगे लेकिन कुछ अखबारों ने दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से बयान बदल डाला."

उन्होंने कहा- "अगर मैंने यही कहा तो इसमें गलत क्या है? क्या स्टालिन मेरे उत्तराधिकारी नहीं हो सकते?”

द्रमुक नेता से जब उनके बड़े बेटे और केंद्रीय मंत्री एल के अलागिरी की नाराजगी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा

“हमारी पार्टी में अगर कोई चाहता है कि वो चुनाव लड़े तो वो लड़ सकता है. एक युनिट सचिव भी महासचिव पद के लड़ सकता है.”

लेकिन मुश्किल है कि ये बात अलागिरी के लिए इतनी ही सुपाच्य होगी.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.