जुर्माना भरना था तो 11 साल की बेटी बेच दी

 शुक्रवार, 25 जनवरी, 2013 को 14:41 IST तक के समाचार

भारत में लड़कियों के स्थिति पर चिंता जताई जाती है.

अभी वो सावन के झूलों, मंदिर की घंटियों और सहेलियों के संग खेलने-कूदने की उमंग से सराबोर थी. लेकिन उसे मां ने ही पराये हाथों बेच दिया.

मां और खरीदार में बेटी के लिए ऐसे सौदा हुआ गोया कोई ज़मीन-जायदाद या गाँव में मवेशी के लिए खरीद-फ़रोख्त हो रही हो. बोली लगी और मां ने अपनी 11 साल की बेटी को साढ़े छह लाख में बेच दिया.

राजस्थान के टोंक में पुलिस ने मां, खरीदार और बिचौलिये को गिरफ्तार कर लिया है.

सौदा दस रूपये के स्टाम्प कागज पर हुआ और भुगतान किस्तों में तय हुआ था.

सौदा

पुलिस के मुताबिक इसका भांडा तब फूटा जब बालिका ने इस सौदे का विरोध किया और बचने के लिए बस्ती से निकल भागी. बालिका का पीछा किया गया तो वो बचने के लिए एक होटल में घुस गई और फर्नीचर के पीछे छुप गई.

इसे देख लोगों ने पुलिस को इत्तिला दी और इस खरीद-फरोख्त सामने आ गई.

" नाता राजस्थान में शादी की एक प्रथा है इसमें पुरुष महिला के बदले कुछ पैसा देकर शादी कर लेता है."

पुलिस के मुताबिक, बालिका की मां झालावाड़ की रहने वाली है. बालिका के खरीदार के साथ मां को गिरफ्तार कर लिया गया है.

टोंक के पुलिस मानव तस्करी विरोधी यूनिट के उप निरीक्षक राकेश वर्मा ने कहा, "इन लोगों को अदालत में पेश किया गया है और अब ये 8 फ़रवरी तक पुलिस रिमांड पर हैं. हम घटना की तह में जाने की कोशिश कर रहे है."

वहीं लड़की की मां ने पुलिस को बताया कि पंचायत ने उस पर साढ़े चार लाख रूपये का जुर्माना लगाया था जिसके बाद उसने बेटी की बिक्री की क्योंकि उसे जुर्माने के लिए पैसे की जरूरत थी.

महिला ने पुलिस को बताया कि उसने अपनी बेटी को सवाई माधोपुर में एक व्यक्ति के यहां 'नाते' बैठा दिया था.

नाता राजस्थान में शादी की एक प्रथा है इसमें पुरुष महिला के बदले कुछ पैसा देकर शादी कर लेता है. मां अपनी बेटी को कुछ समय बाद ही सवाई माधोपुर से वापस घर ले आई. पंचायत ने इसे गलत माना और अर्थ दंड लगा दिया. इस हिसाब से लड़की दूसरी बार बिकी है.

किश्तों में सौदा

बेटी के लिए ऐसे सौदा हुआ मानो मवेशी के लिए खरीद-फ़रोख्त हो रही हो. फाइल तस्वीर, एपी

पुलिस को मिले दस्तावेज के मुताबिक सौदा साढ़े छह लाख में तय हुआ जिसकी पहली किश्त दो लाख रुपए 16 दिसंबर को दी गई.

पुलिस को बालिका ने बताया कि मां का कलेजा नहीं पसीजा और उसे ख़रीदार को सौंप दिया गया. वे उसे कंजरी बस्ती ले आये और अनैतिक कार्य के लिए दबाव डालने लगे. उसके साथ मारपीट भी की गई. बालिका ने पुलिस को बताया कि उसे मुंबई में बेचने के बात की जा रही थी तभी वो भाग निकली.

पुलिस के अनुसार बालिका सवारी ढोने वाली एक जीप में बैठ गई और किराया मांगा तो रोने लगी. तभी दोनों ख़रीदार उसे पकड़ने के लिए आ गए. उनसे बचने के लिए वो सड़क किनारे एक होटल में दाखिल हो गई.

फिलहाल लड़की को बालिका-गृह में रखा गया है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.