गणतंत्र दिवस: अग्नि पाँच और अर्जुन टैंक का प्रदर्शन

 शनिवार, 26 जनवरी, 2013 को 17:35 IST तक के समाचार

भारत के 64 वें गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में भव्य परेड का आयोजन हुआ. एक और जहाँ देश की सांस्कृतिक विविधता को झलकियों में दर्शाया गया वहीं सैन्य शक्ति का भी प्रदर्शन हुआ. इस बार भूटान नरेश विशेष अतिथि हैं.

परेड का मुख्य आकर्षण रही अग्नि-5 बैलिस्टिक मिसाइल जिसकी रेंज 5500 से 5800 किलोमीटर के बीच है. इसे मोबाइल रोड लॉन्चर पर लाया गया था. विभिन्न प्रदेशों ने अपनी अपनी संस्कृति को दर्शाते हुए मनमोहक झाँकियाँ निकाली.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अमर जवान ज्योति पर जाकर श्रद्धंजलि दी.

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को सलामी दी गई. वहीं इस दौरान प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से ट्विट किया गया- मैं हमारे शहीदों को श्रद्धांजलि देता हूँ जिनकी सेवा और कुर्बानी राष्ट्र को प्रेरित करती है.

उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, रक्षा मंत्री एके एंटनी, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और शीर्ष राजनीतिक और सैन्य नेतृत्व भी मौजूद है.

इस मौके पर जमीन से लेकर हवा तक सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं. इस दौरान 150 सीसीटीवी कैमरों से ऐतिहासिक राजपथ से लेकर लाल किले के बीच लोगों की आवाजाही पर नजदीक से निगाह रखी जा रही है. दूरदर्शन ने इस बार नए रोबोटिक कैमरा लगाए हैं ताकि आधिकारिक यू ट्यूब पेज पर लाइव स्ट्रीमिंग की जा सके.

सुरक्षा इंतज़ाम

सुरक्षा प्रबंधों के तहत 25 हजार सुरक्षकार्मियों को तैनात किया गया है. इनमें एनएसजी के निशानेबाज भी शामिल हैं जो ऊंची इमारतों पर तैनात हैं.

रायसीना हिल से लेकर लाल किले तक 8 किलोमीटर लंबे रूट पर दिल्ली पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवानों की खास नजर है.

वायु रक्षा उपायों के अलावा राजपथ के साथ साथ परेड के पूरे रूट पर भारतीय वायुसैनिकों के हेलीकॉप्टर बराबर नजर रखे हुए हैं.

इसके अलावा बाजार वाले इलाकों में गश्त बढ़ा दी गई है और मेट्रो स्टेशन, रेलवे स्टेशन और बस टर्मिनलों पर भी सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई पर सुरक्षा कड़ी की गई है.

देश के अन्य हिस्सों में भी गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा है. पुलिस मुंबई के शिवाजी पार्क ग्राउंड को नो प्लाइंग जो़न बनाया गया है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.