भारत-पाक के बीच पुंछ-रावलाकोट बस सेवा दोबारा शुरू

 सोमवार, 28 जनवरी, 2013 को 11:55 IST तक के समाचार
पूंछ

बस के जरिए लोगों का आना-जाना सप्ताह में एक बार हर सोमवार को होता है

भारत प्रशासित कश्मीर के पहाड़ी ज़िले पुंछ से पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के रावलाकोट के बीच बस सेवा सोमवार से दोबारा शुरू हो गई है.

नियंत्रण रेखा पर चकंदा बाग चौकी के रास्ते सौ से अधिक लोग एक तरफ से दूसरी तरफ गए हैं.

इस बस में सवार होकर दोनों देशों के बिछड़े हुए परिवारों के लोग मिलने के लिए एक-दूसरे के यहां आते जाते हैं.

दोनों देशों के बिछड़े परिवारों को मिलाने के लिए विश्वास बहाली का ये कदम वर्ष 2005 में शुरू हुआ था.

लेकिन पुंछजिले में इस वर्ष आठ जनवरी को भारतीय सेना ने कहा कि पाकिस्तान के फौजियों ने भारतीय इलाके में घुसकर उनके दो सैनिकों को मार दिया था.

इससे दोनों देशों के बीच नियंत्रण रेखा पर तनाव बढ़ गया जिससे आवागमन और व्यापार दोनों ही थम गए.

बड़ा नुकसान

"व्यापार रोकने से कारोबारियों को हर दिन डेढ़ से दो करोड़ रूपये का नुकसान हुआ है"

पवन आनंद, व्यापार संगठन के अध्यक्ष

इससे पहले, पुंछ जिले के प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया था कि सोमवार को पुंछ से 42 यात्री वापस पाकिस्तान जाएंगे जो यहां अपने परिवार वालों से मिलने आए थे.

लोगों का आना-जाना सप्ताह में एक बार हर सोमवार को होता है.

इसके साथ ही दोनों ओर से 10 जनवरी से थमा व्यापार भी मंगलवार से शुरू हो रहा है.

पुंछ में नियंत्रण रेखा के पार व्यापार करने वालों का कहना है कि व्यापार रोकने से उन्हें काफी नुकसान हुआ है.

व्यापार संगठन के अध्यक्ष पवन आनंद ने बताया, ''व्यापारियों को हर दिन डेढ़ से दो करोड़ रूपये का नुकसान हुआ है.''

यह व्यापार सप्ताह में चार दिन मंगलवार से शुक्रवार के बीच होता है.

उनका कहना है कि इस तरह के तनाव से ना केवल व्यापार का नुकसान होता है बल्कि लोगों की भावनाओं को भी ठेस पहुंचती है.

भारत और पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के बीच नियंत्रण रेखा के पार व्यापार वर्ष 2008 में शुरू हुआ था.

व्यापार और लोगों का आना-जाना जम्मू क्षेत्र में पुंछरावलाकोट और कश्मीर घाटी में इस्लामाबाद चकोटी घाट पर होता है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.