जम्मू-कश्मीर में कर्फ्यू, इंटरनेट मोबाइल भी बंद

जम्मू-कश्मीर
Image caption जम्मू-कश्मीर में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू जारी है

भारत के संसद पर हमला करने के दोषी अफज़ल गुरू की फाँसी के बाद से ही जम्मू-कश्मीर में तनाव की स्थिति बनी हुई है.

रविवार को भी घाटी के 10 ज़िलों में अनिश्चितकालीन कर्फ़्यू जारी है.शनिवार को अफ़ज़ल को फाँसी दिए जाने के बाद से घाटी में कर्फ्यू लगा दिया गया था.

इसके अलावा राज्य के सभी ज़िलों में मोबाइल और इंटरनेट सेवा अब भी बंद है हालांकि टीवी के प्रसारण पर लगी रोक ख़त्म कर दी गई.

कई जगहों पर कर्फ्यू के कारण सुबह अखबार भी नही पहुंच सके.

झड़पें

बीबीसी संवाददाता रियाज़ मसरुर का कहना है कि शनिवार रात कश्मीर में सुरक्षा बलों और प्रदर्शनकारियों के बीच कई झड़पें भी हुई हैं.

राज्य के कई ज़िलों में प्रदर्शकारियों ने कर्फ़्यू का उल्लंघन किया है. बारामूला और सोपोर में रात प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़पे हुई है.

अफ़ज़ल गुरू के गृहनगर सोपोर और बारामूला जैसे संवेदनशील इलाकों में पुलिस काफी सतर्कता बरत रही है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक पूरी घाटी में अलग अलग जगहों पर हुए प्रदर्शनों के दौरान 36 लोग घायल हुए हैं. इनमें कम से कम 23 पुलिसकर्मी शामिल है.

सुरक्षा इंतजाम को लेकर कोर-कसर बाकी न रहे इसके लिए राज्य के सभी ज़िलों में बड़ी तादाद में पुलिस बल और केंद्रीय रिर्जव पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों को तैनात किया गया है. जिन जगहों पर पुलिस और प्रदर्शनकारियों की मुठभेड़ हुई थीं उन जगहों पर अतिरिक्त पुलिस तैनाती की गई है.

हड़ताल

वहीं जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के प्रमुख यासिन मलिक अफज़ल गुरू का शव सौंपने की मांग पर 24 घंटे की भूख हड़ताल पर हैं.

गौरतलब है कि अफज़ल गुरू का परिवार दिल्ली में मौजूद है.

ऑल पार्टी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस एमके अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारुक़ ने अफ़जल को फाँसी दिए जाने पर जम्मू-कश्मीर में चार दिन के बंद का ऐलान किया है.

राज्य के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने स्थिति की समीक्षा के लिए वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक की है और साथ ही उन्होंने राज्य की जनता से यह अपील की है कि वे हालात को अनियंत्रित न होने दें.

घाटी में कश्मीर विश्वविद्यालय ने सभी परीक्षाएं रद्द कर दी हैं.

संबंधित समाचार