टू-जी घोटाला: सीबीआई वकील बर्ख़ास्त

ए राजा
Image caption टू जी स्पेक्ट्रम मामले में ही ए राजा को जेल जाना पड़ा था

टू-जी स्पेक्ट्रम नीलामी में हुई कथित धांधली के मामले में अभियुक्तों से कथित सांठ-गांठ के आरोप में कोर्ट में सीबीआई को वकील को बर्ख़ास्त कर दिया गया है.

सीबीआई की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा जा रहा है कि एक नई ऑडियो टेप में वकील द्वारा अभियुक्तों से कथित सांठ-गांठ किए जाने की बात सामने आ रही है, जिसके मद्देनजर तात्कालिक रूप से ये क़दम उठाया गया है.

साल 2008 में 2-जी स्पेक्ट्रम नीलामी के दौरान आरोप लगे थे कि जानबूझकर कम क़ीमत में स्पेक्ट्रम बेचे गए. इस मामले में तत्कालीन दूर संचार मंत्री ए राजा पर भी आरोप लगे थे जिसके बाद उन्हें इस्तीफ़ा देना पड़ा था.

पुष्टि

सीबीआई ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि उसने मामले को देख रहे वकील को हटा दिया है और उनके स्थान पर एक नए वकील को तैनात कर दिया गया है. साथ ही इस मामले की जांच के भी आदेश दे दिए गए हैं.

विज्ञप्ति में कहा गया है कि सीबीआई की इस कार्रवाई से अदालत को भी सूचित कर दिया गया है.

ऐसा कहा जा रहा था कि एक टेप में यह सुनाई दे रहा है कि बर्खास्त किए गए वकील टेलीकॉम कंपनी यूनिटेक के प्रबंध निदेशक के साथ ये तय कर रहे हैं कि इस मामले में अगली रणनीति क्या होगी.

सीएजी की रिपोर्ट में 1.76 लाख करोड़ रुपए के घोटाले की बात सामने आई थी. सरकार ने सीएजी के आंकड़ों को नकार दिया था, लेकिन मामले में तमाम लोगों को जेल जाना पड़ा था.