अफ़ज़ल का शव: 'संसद को फ़ैसला करने दिया जाए'

  • 18 फरवरी 2013
अफ़ज़ल गुरु
Image caption अफ़ज़ल का परिवार उनके शव की मांग पर अड़ा हुआ है.

भारतीय संसद पर हमले के दोषी अफ़ज़ल गुरु की लाश उसके परिवार वालों को सौंपे जाने के मसले पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि इस मुद्दे पर संसद विचार करेगी.

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक प्रधानमंत्री ने कहा है कि अफ़ज़ल गुरु का शव उसके परिवार को सौंपे जाने के मसले पर संसद को विचार करने दिया जाए.

नौ फरवरी की सुबह फाँसी पर लटकाए गए अफ़ज़ल गुरु के परिजनों ने भारतीय राष्ट्रपति और गृहमंत्री से अपील की थी कि उन्हें अफ़ज़ल का शव सुपुर्द कर दिया जाए.

अफ़ज़ल गुरु के शव को तिहाड़ जेल के अंदर ही दफ़ना दिया गया था.

शव की सुपुर्दगी

इससे पहले समाचार एजेंसी पीटीआई ने गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से बताया था कि अफ़ज़ल गुरु की लाश को उसके परिवार वालों को सुपुर्द किए जाने की सरकार की कोई योजना नहीं है.

हालांकि अधिकारी ने कहा कि इस बारे में जल्द ही फैसला कर लिया जाएगा और इसकी सूचना जम्मू कश्मीर की सरकार को दे दी जाएगी.

उधर राज्य सरकार ने अफ़ज़ल गुरु की बेवा तबस्सुम की चिठ्ठी को केंद्र सरकार को भेजा था.

यह चिठ्ठी तबस्सुम ने भारत प्रशासित कश्मीर के बारामूला के आयुक्त को अफ़ज़ल के शव की मांग को लेकर लिखा था.

कश्मीर में कर्फ्यू

भारत प्रशासित कश्मीर में पिछले सात दिनों से जारी कर्फ़्यू शनिवार को हटाए जाते ही प्रदर्शन शुरू हो गए जिनमें कई लोग घायल हो गए.

इस दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच अलग-अलग जगहों पर हुई झड़पों में तीन लोगों की मौत हो गई थी.

श्रीनगर में जमा हुए प्रदर्शनकारी ईदगाह के पास स्थित 'शहीद कब्रिस्तान' जाना चाहते थे, लेकिन पुलिस और अर्धसैनिक बलों की टुकड़ियों ने उन्हें खदेड़ दिया, जिसके बाद वहां पथराव शुरू हो गया.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार