हेलिकॉप्टर घोटाला: विरोध के बीच जेपीसी गठित

Image caption रिश्वत के आरोपों के बाद हेलिकॉप्टर पर राजनीतिक तूफ़ान खड़ा हो गया है

राज्यसभा में हेलिकॉप्टर घोटाले की जांच संयुक्त संसदीय समिति से कराने का प्रस्ताव पारित हो गया.

संयुक्त संसदीय समिति में 30 सदस्य होंगे, जिनमें से 20 लोकसभा के और 10 राज्यसभा के होंगे. समिति तीन महीने में अपनी रिपोर्ट देगी.

भाजपा ने संसदीय कार्यमंत्री कमलनाथ की ओर से रखे गए प्रस्ताव का विरोध करते हुए सदन से वॉकआउट किया.

इससे पहले ऊपरी सदन में बहस में हिस्सा लेते हुए रक्षा मंत्री एके एंटनी ने कहा कि बतौर रक्षा मंत्री इस घोटाले पर वे शर्मिंदा हैं.

उन्होंने आगे कहा, “जब भी कोई घोटाला सामने आता है, हमें शर्मिंदा कर जाता है. मैं सच का पता लगाना चाहता हूं और दोषियों को सज़ा देना चाहता हूं.”

कुछ नहीं छुपाएंगे

एंटनी ने कहा कि करदाताओं के पैसे को बर्बाद नहीं होने दिया जाएगा. साथ ही उन्होंने दावा किया कि इस मामले में पूरी तरह प्रक्रिया का पालन किया गया.

विपक्ष के आरोपों का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि वो कुछ नहीं छुपाएंगे और घोटाले की जड़ तक पहुंचेंगे.

रक्षा मंत्री ने विपक्ष के आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी के रिश्वत न देने के दावे पर उन्हें विश्वास नहीं है.

एंटनी ने सदन को बताया, “उन्होंने जवाब दे दिया है. उन्होंने सभी आरोपों से इनकार कर दिया है. हमें इस पर यकीन नहीं है.”

इससे पहले बहस की शुरुआत करते हुए भाजपा ने सरकार पर जांच में देरी का आरोप लगाया.

ये 'परिवार' कौन है

पार्टी प्रवक्ता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि सौदे में 400 करोड़ रुपए घूस के रूप में दिए गए.

उन्होंने कहा कि देश जानना चाहता है कि इटली के जांचकर्ताओं के पास मौजूद दस्तावेज़ों में जिस “परिवार” का ज़िक्र है, वो कौन है.

उन्होंने कहा कि इन दस्तावेज़ों में दो बार इस “परिवार” का ज़िक्र है.

जावड़ेकर ने कहा कि जुडो राल्फ़ हाश्के, कार्लो वालेन्टिनो फ्रेडिनान्डो गेरोसा और क्रिश्चियन मिशेल दलाल थे जिन्हें पैसा दिया गया और इसका एक भाग गोलमोल रास्तों से भारत पहुंचाया गया.

उन्होंने कहा कि इटली ने इस पर जांच बैठा दी कि “भ्रष्टाचार कैसे हुआ”. हालांकि 3600 करोड़ रुपए के इस सौदे से उसे फ़ायदा हो रहा था.

जावड़ेकर ने आरोप लगाया कि इटली की जांच एजेंसियों की ओर से तैयार सौदे के दस्तावेज़ों पर यूपीए सरकार ने कुछ नहीं किया.

इससे पहले सोमवार को सीबीआई ने इस मामले में 11 लोगों के खिलाफ़ शुरुआती जांच शुरू कर दी है जिनमें पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी और चार कंपनियां शामिल हैं.

संबंधित समाचार