बजट: महिलाओं को बैंक, आयकर में छूट नहीं

  • 2 मार्च 2013
Image caption वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने बजट में कोई लोकलुभावन घोषणा नहीं की.

साल 2013 के बजट में वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने महंगाई को भारत की बड़ी चुनौती और विदेशी निवेश को देश के लिए ज़रूरी बताते हुए कहा कि यूपीए सरकार का मूल मंत्र होगा तेज़ विकास जो सबको साथ लेकर चले.

उम्मीद की जा रही थी कि चुनावी वर्ष में वित्त मंत्री वेतनभोगी मतदाताओं को खुश करने के लिए आयकर में छूट की घोषणा कर सकते हैं और मेडिकल प्रतिपूर्त की सीमा 15 हज़ार रुपए से बढ़ाकर 30 हज़ार रुपए तक कर सकते हैं. लेकिन उन्होंने ऐसा कुछ भी नहीं किया.

यानी आयकर में छूट का लाभ लेने के लिए निवेश की सीमा एक लाख रुपए से नहीं बढ़ाई और न ही टैक्स स्लैब में ही कोई बदलाव किया गया. हालांकि महिलाओं के लिए अलग से एक बैंक बनाने का प्रस्ताव ज़रूर दिया गया है.

बजट में घोषणा की गई है कि पांच लाख रुपए तक की सालाना आमदनी वाले लोगों को 2,000 रुपए का टैक्स क्रेडिट मिलेगा, इससे 1.8 करोड़ लोगों को फायदा होने की उम्मीद है.

इसके अलावा एक करोड़ रुपए से ज़्यादा सालाना आमदनी वाले लोगों पर एक साल के लिए 10 प्रतिशत का सरचार्ज लगाने की घोषणा की गई है. देश में ऐसे 42,800 व्यक्ति हैं.

'निर्भया फंड'

बजट भाषण में चिदंबरम ने महिलाओं, युवा और गरीब तबके को भारत के तीन चेहरे बताया. महिलाओं के खिलाफ बढ़ती हिंसा का हवाला देते हुए 1,000 करोड़ रुपए के 'निर्भया फंड', युवा वर्ग में स्किल डेवलपमेंट को बढ़ावा देने के लिए 1,000 करोड़ रुपए और गरीबों को सीधे पैसे देने की 'डायरेक्ट ट्रांसफर स्कीम' को पूरे देश में लागू करने की घोषणा की.

खाद्य सुरक्षा बिल के लिए 10,000 करोड़ का प्रस्ताव किया गया है. सरकार को उम्मीद है कि ये बिल इसी सत्र में पारित किया जाएगा.

Image caption बजट में महिलाओं के लिए अलग से बैंक बनाने की घोषणा की गई है.

बजट में सीमा शुल्क, सेवा कर और उत्पाद शुल्क के ढांचे में भी कोई बदलाव नहीं किया गया है.

महंगा-सस्ता

लेकिन जो कुछ बदलाव किए गए हैं उनकी वजह से कई चीजें महंगी हो गई हैं जैसे कि बाहर खाना क्योंकि सभी ए.सी. रेस्त्रां सर्विस टैक्स के दायरे में आ गए हैं.

इसके साथ ही सिगरेट और सिगार महंगी हो गई है, एस यू वी गाड़‍ियों पर ड्यूटी 30 फीसदी कर दी गई है जिससे इनकी क़ीमत भी बढ़ जाएगी.

इसके अलावा लग्‍जरी मोटर कार, विदेशी मोटरसाइकिल, 2,000 रुपए से ज्यादा की क़ीमत वाले मोबाइल फ़ोन, सेट टॉप बाक्स और सिल्क के उत्पाद भी महंगे हो गए हैं.

लेकिन कुछ उत्पादों की ड्यूटी में कमी किए जाने की वजह से कई चीज़ें सस्ती भी हुई हैं जैसे कि चमड़ा और चमड़े के सामान, मंहगे स्टोन्स और सूती कपड़े.

इसके अलावा पुरुष यात्रियों को अब विदेश से 50 हज़ार रुपए तक का ड्यूटी फ्री गोल्ड लाने की छूट दी गई है जबकि महिला विदेश यात्रियों के लिए इसकी सीमा एक लाख रुपए रखी गई है.

संबंधित समाचार