इशरत जहां मुठभेड़ केस में डीएसपी गिरफ्तार

Image caption इशरत के साथ उसके 3 और साथी कथित मुठभेड़ में मारे गए थे

गुजरात सरकार के लिए बदनामी का सबब बने चुके इशरत जहां मुठभेड़ कांड में एक और गिरफ्तारी हुई है. गुजरात के डीप्टी एसपी एन के अमीन को सीबीआई ने इस सिलसिले में गिरफ्तार कर लिया है. 19 साल की इशरत जहां की मौत 2004 में अहमदाबाद के बाहरी इलाके में पुलिस के साथ एक कथित मुठभेड़ में हुई थी.

कौन हैं एन के अमीन?

एन के अमीन गुजरात पुलिस में डिप्टी एसपी के पद पर तैनात थे जो पिछले कई सालों से बर्खास्त चल रहे हैं. छह साल वो जेल में भी बिता चुके हैं. उन्हें सोहराबुद्दीन की हत्या के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था हालांकि पिछले महीने ही बॉम्बे हाई कोर्ट ने उन्हें इलाज कराने के लिए जमानत दी थी.

एन के अमीन को सीबीआई ने अहमदाबाद के जिला अस्पताल से गिरफ्तार किया. गिरफ्तारी के बाद सीबीआई की टीम अमीन को पूछताछ के लिए गांधीनगर लेकर गई है. उन्हें कल कोर्ट के सामने पेश किया जाएगा.

मुठभेड़ पर उठे सवाल

Image caption राज्य की नरेंद्र मोदी सरकार पर उठे थे सवाल.

अमीन के अलावा इस केस के सिलसिले में पांच और पुलिस अधिकारियों को गिरफ्तार किया गया था. इनके नाम हैं- जी एस सिंघल (एसपी), तरुन बरोट (डिप्टी एसपी), जे जी परमार, भारत पटेल और अंजू चौधरी. जिस वक्त इशरत जहां की पुलिस के साथ मुठभेड़ हुई थी उस वक्त अमीन गुजरात पुलिस की क्राइम ब्रांच में काम कर रहे थे. वो उस टीम का हिस्सा थे जिसकी इशरत जहां और उसके तीन दोस्तों के साथ कथित तौर पर मुठभेड़ हुई थी.

गुजरात पुलिस का दावा है कि इशरत और उसके तीन दोस्त गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की हत्या करने के इरादे से अहमदाबाद पहुंचे थे जहां पुलिस के साथ मुठभेड़ में उनकी मौत हो गई थी.

मानवाधिकार कार्यकर्ता इस मुठभेड़ की सच्चाई पर सवाल उठाते रहे हैं. मुठभेड़ अहमदाबाद से सटे नरोल में हुई थी. इशरत के अलावा उसके साथ जावेद शेख, अमजदाली अकबराली राना और जीशान जोहर भी इस मुठभेड़ में मारे गए थे.

संबंधित समाचार