इंफोसिस के तिमाही नतीजे उम्मीद से कम

Image caption इंफोसिस के मुताबिक वैश्विक आर्थिक अनिश्चितता के कारण आईटी उद्योग के लिए हालात चुनौतीपूर्ण बने हुए हैं.

आईटी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी इंफोसिस ने 31 मार्च 2013 को समाप्त तिमाही के दौरान अपने शुद्ध लाभ में 3.3% की वृद्धि दर्ज की है, जो बाजार की उम्मीदों के मुकाबले काफी कम है.

इसके चलते शुक्रवार को शुरुआती कारोबार के दौरान कंपनी के शेयरों में 20% की भारी गिरावट देखने को मिली.

इंफोसिस के नतीजों का असर बाजार पर भी देखने को मिला और बीएससी सेंसेक्स दोपहर के कारोबार के दौरान 350 अंक से अधिक की गिरावट के साथ 18,195 अंक पर कारोबार कर रहा था.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने मुताबिक तिमाही के दौरान इंफोसिस की आय 18.09% बढ़कर 10,454 करोड़ रुपए हो गई, जो एक साल इस अवधि के दौरान 8,853 करोड़ रुपए थी.

चुनौती

इंफोसिस के सीईओ और प्रबंध निदेशक एसडी शिबुलाल ने बताया कि, “आईटी उद्योग के लिए वैश्विक आर्थिक अनिश्चितता चुनौतीपूर्ण बनी हुई हैं.”

उन्होंने बताया कि, “हम बाजार में खुद को अलग बनाए रखने और अपने ग्राहकों की पसंद बने रहने के लिए सभी ज़रूरी निवेश कर रहे हैं.”

कंपनी ने बताया कि उसे उम्मीद है कि चालू वित्त वर्ष के दौरान आय में 6 से 10% वृद्धि का अनुमान है, जो नैसकॉम के अनुमानों के मुकाबले काफी कम है.

इस साल फरवरी में सॉफ्टवेयर उद्योग की संस्था नैसकॉम ने कहा था कि सूचना प्रौद्योगिकी और आईटी आधारित सेवा क्षेत्र के वित्त वर्ष 2013-14 के दौरान 12-14 प्रतिशत की दर से बढ़ने का अनुमान है.

इंफोसिस का संचयी शुद्ध लाभ वित्त वर्ष 2012-13 के दौरान 13.3% बढ़कर 9,421 करोड़ रुपए हो गया. इससे पिछले वित्त वर्ष के दौरान कंपनी ने 8,316 करोड़ का शुद्ध लाभ हासिल किया था.

इस दौरान कंपनी की आय 19.6% बढ़कर 40,352 करोड़ हो गई, जो 2011-12 के दौरान 33,734 करोड़ रुपए थी.

इंफोसिस के मुख्य वित्तीय अधिकारप राजीव बंसल ने बताया, “वैश्विक मुद्रा बाजार लगातार उतार-चढ़ाव जारी है, जो आर्थिक माहौल में अनिश्चितता को दर्शाता है. हमारे बही-खाते 4.4 अरब अमरीकी डालर के नकदी और नकदी समतुल्यों के साथ मजबूत हैं.”

संबंधित समाचार