कांग्रेस से फासला, मोदी पर निगाहें टेढ़ी

नीतीश कुमार
Image caption जदयू ने कहा है कि नीतीश कुमार प्रधानमंत्री पद की दौड़ में नहीं हैं.

जनता दल यूनाइटेड ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी से गठबंधन का कोई सवाल ही नहीं पैदा होता और वो सहयोगी दल भारतीय जनता पार्टी को प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार मामले पर और वक्त देगी.

लेकिन गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के मामले पर पार्टी का रूख कड़ा रहा और पार्टी के महासचिव केसी त्यागी ने साफ कहा कि साल 2002 में मोदी गुजरात दंगों को रोकने में नाकाम रहे थे.

इस बीच संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन के अहम घटक दल राष्ट्रवादी कांग्रेस के अध्यक्ष शरद पवार ने मांग की है कि कांग्रेस सहयोगी दलों की बैठक बुलाकर प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार तय करे.

शरद पवार ने कहा, “मुझे लगता है कि हमें साथ बैठकर आगे की योजना तैयार करनी चाहिए. मैं यूपीए अध्यक्ष से अनुरोध करूंगा कि वो सहयोगी दलों की एक बैठक बुलाएं.”

बीजेपी को समय

जदयू बीजेपी के नेतृ्त्व वाली राष्ट्रीय जनतात्रिंक गठबंधन का अहम घटक दल है. लेकिन पिछले दिनों बीजेपी में नरेंद्र मोदी का नाम संभावित प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर आने की खबर के बाद से कहा जा रहा था कि वो एनडीए से दूरी बना सकता है.

जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शनिवार से दिल्ली में शुरू हुई है. इस बीच बीजेपी और जदयू के नेताओं के बीच बातचीत की भी ख़बरे आ रही थीं.

एक प्रेसवार्ता के दौरान के सी त्यागी ने कहा, “हम बीजेपी को और अधिक समय देने के लिए तैयार हैं. बीजेपी से हमारा पुराना नाता है लेकिन पार्टी ने कर्नाटक, झारखंड और उत्तर प्रदेश में गठबंधन धर्म नहीं निभाया.”

प्रधानमंत्री पद के लिए मोदी की दावेदारी पर उन्होंने कहा “हम मोदी को एनडीए की ओर से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने के ख़िलाफ़ हैं. हम इंतजार करेंगे कि बीजेपी किसे प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाती है और उसके बाद ही टिप्पणी करेंगे.”

कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने के सवाल पर त्यागी ने कहा, “कांग्रेस के साथ सरकार बनाने का सवाल ही पैदा नहीं होता. इस पार्टी के साथ समाजवादियों का अनुभव कभी भी अच्छा नहीं रहा है.”

कांग्रेस गठबंधन

इस बीच शरद पवार ने महाराष्ट्र के ठाणे में कहा है कि डीएमके के जाने से यूपीए कमज़ोर हुआ है और लोकसभा चुनाव समय से पूर्व हो सकते हैं.

उन्होंने कहा, “ डीएमके के जाने से संसद में हमारी स्थिति कमज़ोर हुई है. इसलिए हमें किसी भी समय चुनाव के लिए तैयार रहना चाहिए.”

साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री पद के लिए गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की दावेदारी पर चुटकी लेते हुए कहा, “अब तक का अनुभव ऐसा रहा है कि जिसे प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार माना जाता है वो बनता नहीं है.”

संबंधित समाचार