गोवा ने प्लेब्वॉय से किया किनारा

Image caption इससे पहले प्लेबॉय कॉस्ट्यूम की लांचिंग के मौके पर मौजूद थी बॉलीवुड हस्तियाँ

व्यस्कों के मनोरंजन से संबंधित कंपनी प्लेब्वॉय की गोवा में देश का पहला क्लब खोलने की योजना राज्य सरकार द्वारा ख़ारिज कर दी गई है.

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पार्रिकर ने कहा है कि प्लेब्वॉय के प्रस्ताव को लेकर उनकी सरकार 'तकनीकी आधार' पर विचार नहीं करेगी.

इससे पहले उत्तरी गोवा के कौन्डोलिम तट पर क्लब खोलने की योजना थी.

भारत के अश्लीलता क़ानून के तहत प्लेब्वॉय सहित कई अन्य व्यस्क पत्रिकाएं देश में प्रतिबंधित हैं.

योजना

प्लेब्वॉय ब्रांड का अधिकार हासिल करने वाली भारतीय कंपनी पी.बी. लाईफ़स्टाइल की योजना अगले तीन वर्षों के दौरान आठ प्लेब्वॉय क्लब खोलने की है और कंपनी 10 वर्षों के दौरान 120 क्लब, बार और कैफ़े खोलने का इरादा रखती है.

हालांकि कंपनी ने ताज़ा घटनाक्रम पर अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है.

माना जा रहा है कि गोवा में हिन्दू राष्ट्रवादी दल भारतीय जनता पार्टी ( भाजपा) की सरकार ने पार्टी के भीतर इस प्रस्ताव को लेकर आशंकाओं के चलते प्रस्ताव को ख़ारिज कर दिया है.

आरोप

ख़बरों के मुताबिक़ भाजपा विधायक माइकल लोबो ने आरोप लगाया है कि प्लेब्वॉय क्लब 'अश्लीलता' को बढ़ावा देगा और उन्होंने क्लब खोलने पर भूख हड़ताल पर जाने की धमकी दी थी.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने गोवा के पर्यटन मंत्री दिलीप पारुलेकर के हवाले से कहा है कि प्लेब्वॉय क्लब को अनुमति देने पर “अश्लीलता को बढ़ावा मिलने” को लेकर काफ़ी बहस हो रही थी.

गोवा में 22,000 वर्ग फीट क्षेत्रफल में क्लब खोलने की योजना थी.

पिछले साल बॉलीवुड अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा पहली भारतीय बनीं थीं, जिसने प्लेब्वॉय के लिए निर्वस्त्र होकर तस्वीरें खिंचवाईं.

संबंधित समाचार