बनी हुई है प्लेब्वॉय की राह में अड़चन

Sherlyn
Image caption बॉलीवुड अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा प्लेब्वाय के लिए मॉडलिंग करने वाली पहली भारतीय महिला हैं

भारत में अमरीकी ब्रांड प्लेब्वॉय के पहले वेंचर प्लेब्वॉय क्लब को लेकर जारी गर्मागरम बहस उस समय थमती नजर आई जब गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने सोमवार को कहा कि इस विदेशी ब्रांड को लाइसेंस देने में कुछ कानूनी अड़चन सामने आ रही है.

सरकार की दलील है कि जब सैलानियों की आवाजाही अधिक होती है (आमतौर पर नवंबर से फरवरी के दौरान) तो उस दौरान समुद्री किनारों पर कुछ समय के लिए अस्थाई रूप से निर्माण की इजाजत दे दी जाती है, जबकि प्लेब्वॉय ने स्थाई प्रॉपर्टी का प्रस्ताव रखा है जो पर्यटन विभाग के दिशानिर्देशों से मेल नहीं खाता है.

हालांकि पर्रिकर ने बहस के मुख्य बिन्दु पर टिप्पणी करने से इनकार किया.

संस्कृति का प्रश्न

राज्य में इस बात को लेकर बहस तेज है कि क्या प्लेब्वॉय से सांस्कृतिक मूल्यों से भटकाव को बढ़ावा मिलेगा और वासना की वस्तु के तौर पर पेश किए जाने के कारण महिलाओं का सम्मान घटेगा.

इस क्लब का विरोध कर रहे राजनेता और आम नागरिक फैसले के बाद काफी खुश हैं.

पहला प्लेब्वॉय क्लब 1960 में शिकागो में खोला गया था. ऊँचे तबकों के सदस्यों वाले इस क्लब में महिलाएँ केवल एक पीस का बेहद छोटा खरगोशनुमा कपड़ा पहन कर विशेष “कमरों” और बार में मेहमानों का मनोरंजन करती हैं.

कांग्रेस के पूर्व विधायक एंग्लेनो फर्नांडिस ने उत्तरी गोवा के कौंडोलिम बीच में प्लेब्वॉय क्लब खोलने के लिए गोवा के पर्यटन मंत्रालय के सामने प्रस्ताव रखा था.

हालांकि अभी तक यह साफ नहीं हो सका है कि गोवा क्लब पूरी तरह से अमरीकी पैटर्न का अनुसरण करेगा या नहीं.

भारत में प्लेब्वॉय ब्रांड को प्रमोट कर रही मुंबई स्थित कंपनी प्लेब्वॉय लाइफ़ स्टाइल ने अपने भारतीय वेंचर के लिए फर्नांडिस की 22,000 वर्ग फीट प्रॉपर्टी ली है.

गोवा

भारत में पार्टी के लिए गोवा को सबसे अधिक लोकप्रिय डेस्टिनेशन माना जाता है और यहाँ कई क्लब और बीच हैं जहाँ वर्जनाओं को तोड़ते हुए जोरदार जश्न मनाया जाता है.

लेकिन हाल के दौर में पर्यटन मंत्रालय ड्रग्स, जुआ और अनैतिक व्यवहार के स्वर्ग के रूप में बनी गोवा की छवि को बदलने के लिए काफी कोशिश कर रहा है.

भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों से जुड़े नेताओं ने क्लब को लेकर अपनी नाखुशी जाहिर की थी, जबकि सबसे मुखर विरोध कैलनग्यूट से भाजपा के विधायक माइकल लोबो ने किया.

लोबो ने घमकी दी थी कि आवेदन को मंजूरी मिलने पर वह भूख हड़ताल पर चले जाएंगे.

विरोध

Image caption आरोप है कि प्लेब्वॉय क्लब में महिलाओं को वासना की वस्तु के रूप में प्रस्तुत किया जायेगा

विधानसभा में बहस के दौरान लोबो ने क्लब को लाइसेंस देने को वैश्यावृत्ति को लाइसेंस देने के समान बताया था.

गोवा प्रदेश यूथ कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष प्रतिमा कुटिन्हो सहित कांग्रेस का एक बड़ा हिस्सा भी प्रस्ताव को खारिज करने को लेकर मुखर है.

फोन पर बातचीत के दौरान लोबो ने वताया कि वह आखिर क्यों अमेरिकी ब्रांड का बुनियादी रूप से विरोध कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि, “हमारी संस्कृति में अतिथि सत्कार करने वाली महिलाओं को सम्मान के साथ देखा जाता है, लेकिन प्लेब्वॉय में हमारी महिलाओं को वासना की वस्तु के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा, सिर्फ मर्दों के मनोरंजन के लिए.”

लोबो ने कहा कि वह ताजा घटनाक्रम से खुश हैं, लेकिन फिलहाल वह इस मसले को छोड़ने वाले नहीं हैं.

संबंधित समाचार