बलात्कार की शिकार हुई चार साल की बच्ची ने दम तोड़ा

  • 30 अप्रैल 2013
Image caption एनसीआरबी के मुताबिक मध्य प्रदेश में सर्वाधिक बलात्कार के मामले दर्ज हुए हैं.

मध्य प्रदेश के शिवनी ज़िले में बलात्कार का शिकार हुई चार साल की बच्ची ने नागपुर के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया है.

इस बच्ची के दिमाग सहित शरीर के दूसरे भागों में भी चोट आई थी और वो रविवार से ही कोमा में थी.

सोमवार रात 11 बजे इस बच्ची की अस्पताल में मौत हो गई.

मध्य प्रदेश पुलिस के मुताबिक चार साल की इस बच्ची के साथ 35 साल के फिरोज़ खान ने 17 अप्रैल को बलात्कार किया जिसके बाद उसने बच्ची को एक फार्म में छोड़ दिया.

खबरों के मुताबिक आरोपी फिरोज़ खान ने कथित तौर पर दुष्कर्म के बाद बच्ची को जान से मार देने की भी कोशिश की और जब उसे लगा कि वो ज़िंदा नहीं बची है, वो मौका-ए-वारदात से फरार हो गया.

इस बच्ची के माता-पिता को अगली सुबह उनकी बेटी बेहोशी की हालत में मिली जिसके बाद उसे जबलपुर के एक अस्पताल में ले जाया गया.

विश्वासघात

लेकिन बच्ची की हालत बिगड़ने के बाद उसे 20 अप्रैल को हवाई एंबुलेंस के ज़रिए नागपुर के अस्पताल ले जाया गया.

मामले में 35 वर्षीय आरोपी को बिहार के भागलपुर ज़िले से गिरफ्तार कर लिया गया है.

पुलिस के मुताबिक आरोपी फिरोज़ खान नेपाल भागने की तैयारी में था. फिरोज़ के मोबाइल फोन की कॉल्स ट्रेस कर पुलिस ने इसे गिरफ्तार कर लिया.

फिरोज़ मध्य प्रदेश में एक निजी पावर प्लांट में वेल्डिंग का काम करता है.

इस बच्ची का परिवार बहुत गरीब है और वे फिरोज़ को पहले से ही जानते थे.

जबलपुर से स्थानीय पत्रकार संजीव चौधरी ने बीबीसी को बताया कि फिरोज़ ने बच्ची के परिवार से कुछ पैसे उधार लिए थे और जब वो पैसे लौटाने उनके घर पहुंचा तो बच्ची को देख कर उसकी नीयत खराब हो गई, जिसके बाद वो उसे चॉकलेट खिलाने के बहाने अपने साथ बाहर ले गया.

क्योंकि परिवार वाले फिरोज़ को पहले से ही जानते थे, उन्होंने इस बात पर कोई आपत्ति नहीं की. लेकिन फिरोज़ ने उनके साथ विश्वासघात कर बच्ची के साथ बलात्कार किया.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार