पेशे से ड्राइवर थे स्टंटमैन शैलेन्द्र

Image caption चोटी के सहारे ट्रेन खींचकर शैलन्द्र नाथ रॉय ने रिकॉर्ड बनाया था

शैलेन्द्र नाथ राय ने जब अपने बालों के ज़रिए नदी पार करने की सोची होगी तो उनके जेहन में मौत का ख्याल शायद ही आया होगा. कई रिकार्ड बना चुके और गिनीज बुक में नाम दर्ज करा चुके शैलेन्द्र नाथ राय की एक रिकार्ड बनाने के दौरान ही मौत हो गई.

रिकार्डों का शौक शैलेन्द्र के लिए कोई नया नहीं था लेकिन एक जांबाज कोशिश ने न केवल रिकार्ड को रोका बल्कि उनकी जिंदगी पर भी रोक लगा दी.

स्टंटमैन शैलेन्द्र नाथ रॉय के पिता की मौत उसी समय हो गई थी जब वो महज दो या तीन साल के थे.

मूल रूप से शैलेन्द्र और उनका परिवार उत्तरी बंगाल के कचियाबाड़ी इलाके का निवासी था लेकिन बाद में वो लोग सिलीगुड़ी जाकर बस गए.

उस वक्त शैलेन्द्र नाथ रॉय की उम्र कम ही थी.

शुरुआत में परिवार सिलीगुडी़ के देशबंधुपुरा इलाके में रहता था.यहीं पर शैलेन्द्र नाथ बड़े हुए. लेकिन वो पढ़ाई लिखाई कर न सके.

उनके परिवार के लोग बताते हैं कि वो बचपन से ही शरारती थे.चार भाइयों में वो तीसरे नंबर पर थे.

35 साल पहले शैलेन्द्र का विवाह सरस्वती के साथ हुथा.उनके तीन बच्चे हैं—दो बेटे और एक लड़की. बेटों के नाम विश्वजीत और सुरजीत हैं.

चूंकि शैलेन्द्र पढ़े लिखे नहीं थे इसलिए अक्सर वो अपनी बेटी से कहते कि वो उन्हें पढ़ाए.जब तक उनकी बेटी की शादी नहीं हुई थी तब तक बेटी हर दिन अपने पिता को पढ़ाया करती.

अब उनके दोनों बेटों की भी शादी हो चुकी है.

शैलेन्द्र पेशे से ड्राइवर थे और आज से 26 साल पहले मशहूर आईपीएस अधिकारी नजरूल इस्लाम ने उन्हें पुलिस विभाग में ड्राइवर की नौकरी दी थी.

स्टंट की शुरुआत

साल 2000 के आसपास शैलेन्द्र ने डिस्कवरी चैनल पर कुछ स्टंट देखा और इसे देखकर वो काफी रोमांचित हुए.

इसके बाद से ही उन्होंने अपने बाल बढ़ाने शुरु कर दिए.हालांकि इस कारण उन्हें पत्नी की डांट भी खानी पड़ी.

शुरुआत में वो घर पर ही अभ्यास किया करते थे.इसके लिए वो चोटी बांधकर लटक जाते थे या फिर अपनी चोटी से वजन उठाते थे.

Image caption चोटी के अलावा शैलेन्द्र मूछों से भी स्टंट किया करते थे

2001 में पहली बार उन्होंने अपनी मूछों से 20 किलोग्राम का वजन उठाया था.

2002 में एक सुबह उनकी पत्नी ने देखा कि वो अपनी चोटी से पुलिस की वही गाड़ी खींच रहे हैं जिसे वो चलाया करते थे.

इसके बाद से ही वो कस्बे में चर्चा में आ गए. इसके बाद उनके दोस्त उन्हें चोटी की सहायता से और भारी सामान उठाने के लिए प्रेरित किया करते थे.

प्रदर्शन

शैलेन्द्र नाथ रॉय ने अपने स्टंट का प्रदर्शन देश के कई हिस्सों में किया ही साथ ही वो विदेशों में भी कई जगह अपने स्टंट दिखा चुके थे.

उनके कई स्टंट काफी मशहूर हैं. इसमें शामिल हैं 2008 में चोटी से ही ट्वॉय ट्रेन को खींचना. 2012 में सियोल में मूंछ की सहायता से भारी वजन उठाना. 2003 में अपनी चोटी से चेन बांधकर उन्होंने एक ट्रक और बस खींचा था.

2011 में अपनी चोटी के बल लटककर शैलेन्द्र ने 75 फीट की ऊंचाई पर दो इमारतों के बीच 370 मीटर की दूरी तय की थी.

2011 में रॉय का नाम गिनीज ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल किया गया. इसके लिए उन्होंने राजस्थान के नीमराना पैलेस में 270 फीट की दूरी पर अपनी चोटी से चेन बांधकर स्टंट किया था.

संबंधित समाचार