सनाउल्लाह को पाकिस्तान भेजा जाए: रिश्तेदार

  • 7 मई 2013
Image caption जेल हमले में बुरी तरह ज़ख्मी सनाउल्लाह रांजे का पीजीआई चंडीगढ़ में इलाज चल रहा है.

जम्मू की जेल में हमले के बाद ज़िंदगी और मौत के बीच झूल रहे पाकिस्तानी नागरिक सनाउल्लाह रांजे के रिश्तेदारों ने मंगलवार को चंडीगढ़ की पीजीआई अस्पताल में उनसे मुलाकात की और मांग की कि वो 'जिस हाल में भी हैं', उन्हें मानवीय सहानुभूति के आधार पर पाकिस्तान भेज दिया जाए.

सनाउल्लाह के साले मोहम्मद शहज़ाद ने बीबीसी से बात करते हुए कहा कि "उम्मीद की किरण बहुत कम नज़र आ रही है. डॉक्टरों के मुताबिक सनाउल्लाह का दिमाग़ काम नहीं कर रहा है. (इस लिहाज़ से) उनकी मौत दो-तीन दिन पहले ही हो चुकी है. बस वेंटिलेटर की वजह से उनके दिल की धड़कन चल रही है."

मोहम्मद शहज़ाद और सनाउल्लाह के भांजे मोहम्मद आसिफ़ को सोमवार को ही वीज़ा जारी किए गए थे.

उन्होंने कहा कि, "इतने दिन बाद (सनाउल्लाह) से मुलाक़ात हुई और किस हाल में हुई. उन्हें देखकर हमें बहुत दुख हुआ है."

हमला

सनाउल्लाह पर पिछले मंगलवार को जम्मू की कोट भलवल जेल में क़ातिलाना हमला किया गया था जब भारतीय पंजाब में पूरे सरकारी सम्मान के साथ भारतीय क़ैदी सरबजीत सिंह का अंतिम संस्कार हो रहा था.

सरबजीत पर लाहौर की कोट लखपत जेल में हमला किया गया था जिसके कुछ दिन बाद उन्होंने अस्पताल में दम तोड़ दिया था.

पाकिस्तान उच्चायोग के एक अधिकारी के मुताबिक सनाउल्लाह की हालत में किसी तरह की कोई बेहतरी नहीं हुई है और न ही अस्पताल के डॉक्टरों ने उन्हें वेंटिलेटर से हटाने के बारे में सनाउल्लाह के रिश्तेदारों से कोई बात की है. इस बारे में अंतिम फैसला उनके रिश्तेदारों का ही होगा कि वेंटिलेटर कब हटाया जाए.

सनाउल्लाह पर भारत प्रशासित कश्मीर में बम धमाके करने का जुर्म साबित हुआ था और वो 1999 से जम्मू की जेल में सज़ा काट रहे थे.

उन पर हमला करनेवाला व्यक्ति एक पूर्व सैनिक है जो हत्या के जुर्म में सज़ा काट रहा है.

'हालत ख़राब'

सनाउल्लाह को हवाई एंबुलेंस के ज़रिए चंडीगढ़ लाया गया था. सोमवार को भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त सलमान बशीर ने भी सनाउल्लाह से अस्पताल में मुलाक़ात की थी.

बाद में बशीर ने कहा सनाउल्लाह के ज़िंदा बचने की संभावना काफी कम है.

Image caption सनाउल्ला 1999 से भारतीय जेल में क़ैद हैं.

सरबजीत सिंह की मौत के बाद से दोनों देशों के संबंधों में और ज्यादा तल्खी पैदा हो गई है लेकिन बशीर ने कहा कि इस स्थिति में संयम से काम लिया जाना चाहिए.

सोमवार को अस्पताल की ओर से जारी एक मेडिकल बुलेटिन में कहा गया था कि सनाउल्लाह की हालत पहले के मुकाबले और ख़राब हो गई है.

सनाउल्लाह का संबंध पाकिस्तान के सियालकोट शहर से है. उनकी पत्नी का निधन सात साल पहले हो गया था और मोहम्मद शहज़ाद के मुताबिक उनके दो बेटे दस्ताने बनाने का काम करते हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार