संजय दत्त को वापस जेल जाना ही होगा

  • 10 मई 2013
Image caption संजय दत्त

भारतीय सुप्रीम कोर्ट ने फ़िल्म अभिनेता संजय दत्त की पुनर्विचार याचिका ख़ारिज कर दी है.

संजय दत्त ने सुप्रीम कोर्ट के 21 मार्च के फ़ैसले पर पुनर्विचार की अपील की थी.

आतंकवाद से जुड़े मामलों से निपटने के लिए बनी टाडा अदालत ने संजय दत्त को आर्म्स ऐक्ट के तहत दोषी पाया था और उन्हें छह साल की सज़ा सुनाई थी.

21 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने टाडा अदालत के फैसले को बरकरार रखते हुए संजय दत्त की सज़ा को एक साल घटाकर पाँच साल कर दिया था.

(1993 के मुंबई धमाके: कब, क्या हुआ था)

कोर्ट ने संजय की अपील में “कोई औचित्य नहीं” पाया और इसे ख़ारिज कर दिया.

संजय दत्त के साथ छह अन्य अभियुक्तों की याचिका भी खारिज कर दी गई है.

इस फ़ैसले के बाद संजय दत्त को 16 मई से पहले जेल जाना होगा.

अदालत ने पिछले महीने ही उन्हें समर्पण करने के लिए एक महीने का समय दिया था.

संजय दत्त को आर्म्स एक्ट मामले में कोर्ट ने पांच साल की सज़ा सुनाई है.

इनमें से डेढ़ महीने की सज़ा संजय पहले ही काट चुके हैं और उन्हें अब बाकी साढ़े तीन साल जेल में बिताने होंगे.

जिन अन्य अभियुक्तों की पुनर्विचार याचिका ख़ारिज की गई है, वो हैं- युसुफ़ मोहसिन नलवाला, खलील अहमद सैयद अली नज़ीर, मोहम्मद दाउद युसुफ़ ख़ान, शेख आसिफ़ युसुफ़, मुज़म्मिल उमर कादरी और मोहम्मद अहमद शेख शामिल हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार