लालू की रैली के लिए पटना में उमड़ा हुजूम

लालू प्रसाद यादव
Image caption कहा जा रहा है कि लालू अपनी ताकत साबित करना चाहते हैं

पटना के गांधी मैदान में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की ' परिवर्तन रैली' शुरू हो गई है जिसमें लोगों की काफी तादाद दिख रही है.

चिलचिलाती धूप और भीषण गर्मी के बावजूद गाँधी मैदान में भारी भीड़ जुटी है और मैदान के आस पास की तमाम सड़कों और गलियों में लोगों का हुजूम नज़र आ रहा है.

रैली मंच पर पार्टी नेताओं के भाषण शुरू हो गए हैं, हालांकि लालू यादव दोपहर बाद ही यहां पहुंचेंगे.

इस बीच पार्टी की तरफ से लोगों को सत्तू-शरबत और नीबू-पानी पिलाने की व्यवस्था की गई है.

अब भी 'बाकी है असर'

रैली स्थल और उसके इर्द गिर्द खीरे, तरबूज और गन्ना का रस बेचने वालों ने प्यास और गर्मी से परेशान लोगों को बड़ी राहत दी है.

भीड़ में ज़्यादातर निम्न मध्य वर्गीय ग्रामीण लोग नज़र आ रहे हैं और मुस्लिम समुदाय की भी अच्छी-ख़ासी भागीदारी दिख रही है.

हाथ में राजद का चुनाव चिन्ह 'लालटेन' छपे हरे झंडों और हरी टोपियों-गमछों से सर ढंके लोगों का गांधी मैदान के रास्तों पर ताँता -सा लगा है.

नीतीश सरकार के ख़िलाफ़ और लालू यादव के समर्थन में नारे लगाए जा रहे हैं.

भीड़ देखकर चर्चा होने लगी है कि लालू का असर अभी पूरी तरह मिटा नहीं है और वो अपने पुराने रंग में लौटने की कोशिश कर रहे हैं.

इतनी व्यापक तैयारी के मद्देनज़र इस रैली में भारी भीड़ जुटने का अनुमान लगाया जा रहा है. लेकिन इसी सिलसिले में कई ऐसे सवाल भी उभरे हैं, जो ' लालू राज ' की वापसी होने या नहीं होने के कारणों से जुड़े हैं.

इस रैली के ज़रिए लालू प्रसाद के दोनों बेटों- तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव को उभारने का सुनियोजित प्रयास भी साफ़ दिख रहा है.

संबंधित समाचार