अब टाडा कोर्ट में समर्पण करेंगे संजय दत्त

संजय दत्त

फ़िल्म अभिनेता संजय दत्त ने पुणे की येरवडा जेल में आत्मसमर्पण करने की अपनी याचिका वापस ले ली है.

माना जा रहा है कि वो मुंबई में टाडा की विशेष अदालत के समक्ष गुरुवार को आत्मसमर्पण करेंगे.

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने आत्मसमर्पण के लिए और समय देने संबंधी उनकी याचिका ख़ारिज कर दी थी.

इसके बाद संजय दत्त ने पुणे में आत्मसमर्पण करने के लिए मुंबई में टाडा अदालत में याचिका दायर की थी.

साल 1993 में मुंबई में हुए बम धमाकों से जुड़े एक मामले में दोषी पाए गए संजय दत्त ने मंगलवार को टाडा अदालत में कहा था कि उन्हें चरमपंथी संगठनों से जान का खतरा है और उन्हें विशेष अदालत की बजाए येरवडा जेल में आत्मसमर्पण करने की अनुमति दी जाए.

न्यायाधीश जीए सनाप ने सीबीआई को इस संबंध में अपना जवाब दाखिल करने को कहा था और याचिका पर सुनवाई बुधवार को तय की थी.

सज़ा

संजय दत्त को पाँच साल जेल की सज़ा मिली है जिसमें से डेढ़ साल वो पहले ही जेल में काट चुके हैं. बाकी सज़ा पूरी करने के लिए उन्हें 16 मई तक आत्मसमर्पण करना है.

संजय दत्त ने इस सज़ा के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका भी दाखिल की थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उस पर विचार करने से मना कर दिया था.

उन्हें पिछले महीने ही अदालत के सामने आत्मसमर्पण करना था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें एक महीने की मोहलत दी थी. यह समय सीमा 16 मई को समाप्त हो रही है.

टाडा अदालत ने संजय दत्त को अवैध हथियार रखने का दोषी पाया था और छह साल की सज़ा सुनाई थी. सुप्रीम कोर्ट नें उनकी सज़ा को कम करके पांच साल कर दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर भी फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार