अंडर गारमेंट्स पहने पुतलों पर रोक की मांग

मुंबई में बलात्कार की बढ़ती हुई वारदातों को कम करने के लिये मुंबई नगरपालिका ने एक प्रस्ताव पारित किया है जिसमें ये सुझाव दिया गया है कि दुकानों के शोरूम में अर्धनग्न पुतलों पर प्रतिबंध लगा दिया जाए.

इन पुतलों को दुकानदार महिलाओं के अंडर गारमेंट्स से सजाते हैं. प्रस्ताव में कहा गया है कि अंडर गारमेंट्स से सजे इन पुतलों के कारण पुरुष ग़लत हरकत करते हैं

इस प्रस्ताव को हाल में नगरपालिका की 227 सदस्यों वाली आम समिति ने सर्वसम्मति से पारित किया. नगरपालिका के कमिश्नर सीताराम कुंटे इस पर विचार कर रहे हैं.

मानसिकता की बात

बलात्कार की वारदातों में मुंबई का देश में दूसरा नंबर है. नगर निगम की सदस्या रितु तावड़े के अनुसार ये औरतों पर हमलों का एक बड़ा कारण है. रितु तावड़े ने ही सबसे पहले ये प्रस्ताव रखा था.

बीबीसी से बातचीत में उन्होंने कहा, "अंडर गारमेंट्स पहने महिलाओं के ये पुतले सीधे या अप्रत्‍यक्ष रूप से बलात्कार का कारण बनते हैं. ये पुतले मर्दों को लुभाते हैं. ये पश्चिमी संस्कृति का एक हिस्सा है हमारा समाज इसकी इजाज़त नहीं देता."

Image caption दुकानदारों और महिलाओं की इस प्रस्ताव पर मिली-जुली राय है

रितु तावड़े ने अपने इलाक़े में अर्धनग्न पुतलों को दुकानों में न लगाने के लिए दुकानदारों को पहले ही राज़ी कर लिया है.

उन्होंने कहा, "ये महिलाओं के लिए शर्मनाक बात है. वो मेरे पास आती हैं और इसके खिलाफ शिकायत करती हैं."

बहलोल शेख़ एक दुकानदार हैं. उन्होंने बीबीसी को बताया कि अगर पुतलों को लगाने पर पाबंदी लगाई गई तो वे इसे मानेंगे. उनका मानना है कि इससे बिक्री में कोई फर्क नहीं पड़ेगा.

सलीम फकीह नाम के एक और दुकानदार ने कहा कि कम कपड़ों में घूमती लड़कियों पर पहले पाबंदी लगाओ. उन्होंने कहा, "आज कल की महिलाओं को देखिए, क्या पहनती हैं. वो हमारे पुतलों के मुक़ाबले कम कपड़े पहनती हैं."

ऐसे पुतलों के बारे में महिला ग्राहकों ने मिली-जुली राय सामने रखी. नंदिता नाम की एक लड़की ने इस प्रस्ताव का स्वागत करते हुए कहा, "इस पर पाबंदी लगाने से औरतों पर होने वाले हमले कम होंगे."

आरती भद्रा के अनुसार ये एक बचकाना प्रस्ताव है. उन्होंने कहा, "मेरे विचार में इससे बलात्कार का कोई लेना देना नहीं. ये मानसिकता की बात है. भारत की मानसिकता काफी पिछड़ी है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार