'सपने में भी नहीं सोचा था इंफोसिस में लौटूंगा'

  • 1 जून 2013

देश की अग्रणी सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी इंफोसिस के संस्थापक एन आर नारायण मूर्ति ने एक बार फिर से कंपनी का नेतृत्व संभाल लिया है.

उन्हें तत्काल प्रभाव से एक जून से ही कंपनी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं अतिरिक्त निदेशक का पद सौंप दिया गया है.

इंफ़ोसिस में अपनी दूसरी पारी की शुरुआत कर रहे एन आर नारायण मूर्ति ने शनिवार को कहा कि उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा था कि कंपनी के अध्यक्ष के तौर पर वो वापसी करेंगे. अपनी नई पारी को एक नई चुनौती करार देते हुए उन्होंने कहा, "20 अगस्त, 2011 को जब मैंने इंफोसिस छोड़ी थी तो मेरे ख्वाब में भी दूर-दूर तक ये ख्याल नहीं था कि मैं फिर से वापसी करूंगा."

कंपनी के बोर्ड द्वारा नया कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने पर नारायण मूर्ति ने ये बातें संवाददाताओं से कहीं. उन्होंने कहा, "मेरे लिए ये दूसरी पारी की तरह ही है क्योंकि एग्जीक्यूटिव जिम्मेदारी संभाले हुए मुझे सात साल हो गए हैं. 2006 से 2011 के बीच मैं कंपनी का गैर कार्यकारी अध्यक्ष था. अब मेरे सामने इस नई जिम्मेदारी में नई चुनौतियां हैं."

नई चुनौती

नारायण मूर्ति ने कहा कि इंफोसिस के मौजूदा चेयरमैन के वी कामथ जब चार मई को उनसे मिले और उनसे कंपनी में वापस लौटने का निमंत्रण दिया ताकि कंपनी की गुणवत्ता बढ़ाई जा सके तो वो उहापोह की स्थिति में थे. 65 साल के होने पर नारायण मूर्ति ने ये फैसला किया था कि अब वो वही चीजें करेंगे जिसे वो सबसे ज्यादा पसंद करते हैं और वो भी अपने सबसे पसंदीदा लोगों की संगत में. जिस दिन उन्होंने इंफोसिस छोड़ा था उस दिन शाम 5.30 बजे तक वो पूरे उत्साह और समर्पण के साथ कंपनी के प्रति अपनी जिम्मेदारियां निभा रहे थे. कंपनी में अपनी वापसी के बाद नारायण मूर्ति ने कहा, "मेरे लिए ये एक विलक्षण अवसर है और मुझे यक़ीन है कि इंफोसिस में दोबारा काम करना उनके लिए बेहद रोमांचक होगा."

शनिवार को हुई निदेशक मण्डल की एक बैठक में नारायण मूर्ति को अगले पांच सालों के लिए इस पद के लिए चुना गया. इस कार्यकाल के दौरान नारायण मूर्ति के पुत्र रोहन मूर्ति उनके कार्यकारी सहायक के रूप में उनका सहयोग करेंगे.

प्रतीकात्मक वेतन

नारायण मूर्ति और रोहन मूर्ति अपने कार्यकाल के दौरान मात्र 1 रुपया प्रति वर्ष प्रतीकात्मक वेतन लेंगे.

इंफ़ोसिस के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष के वी कामथ के अनुसार ''यह कदम कंपनी एवं टेक्नोलॉजी उद्योग के सामने आ रही चुनौतियों और शेयर धारकों के हित को देखते हुए उठाया गया है.''

पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष एवं वरिष्ठ बैंकर के वी कामथ अब कंपनी के मुख्य स्वतंत्र निदेशक के रूप में कार्य करेंगे.

निदेशक के रूप में नारायण मूर्ति की नियुक्ति को आगामी 15 जून को वार्षिक आम सभा (एजीएम) में शेयर धारकों की संस्तुति के लिए पेश किया जाएगा.

वर्तमान में 7 बिलियन अमरीकी डालर से ज्यादा मूल्य वाली कंपनी इंफ़ोसिस को नारायण मूर्ति ने 1981 में अपने छह साथियों के साथ मिलकर मात्र 250 अमरीकी डालर की पूंजी के साथ शुरू किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार