उप चुनाव: नरेन्द्र मोदी चमके, नीतीश को झटका

महाराजगंज
Image caption महाराजगंज की जीत लालू प्रसाद के दल में फिर से जान फूंक सकती है.

देश के पांच राज्यों में हुए लोकसभा और विधानसभा उप चुनावों में बिहार को छोड़कर सभी सूबों में सत्तारूढ़ दल या तो अपनी बढ़त बनाए रखने में कामयाब रहे हैं या पहले विपक्ष के खाते में मौजूद सीटें उनके पक्ष में चली गई हैं.

गुजरात में लोकसभा के लिए दो सीटों पोरबंदर और बनासकांठा में उप चुनाव हुए थे. ये सीटें पहले कांग्रेस के पास थीं, लेकिन जनता ने इस बार इन्हें नरेन्द्र मोदी की भारतीय जनता पार्टी की सरकार के पक्ष में कर दिया है.

पहले कांग्रेस के पास मौजूद चार विधानसभा सीटें भी सत्तारूढ़ दल के खाते में गई हैं.

ये सीटें थीं - लिंबादी, मोरवा हदफ़, जेतपुर और दोरजी.

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इसे कांग्रेस पार्टी की नेतृत्ववाली केंद्रीय सरकार के लिए जनता की तरफ़ से दिया गया संकेत बताया.

उनके मुताबिक़ ये इस बात का संकेत है कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन के जाने का वक्त आ गया है.

बढ़त नहीं

Image caption गुजरात में हुई जीत को मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए फायदेमंद कहा जा रहा है.

लेकिन गुजरात के अलावा बीजेपी को कहीं भी बढ़त हासिल होती नहीं दिखी.

बिहार में तो सहयोगी दल जनता दल (यूनाइटेड) को महारजगंज लोकसभा उप चुनावों में 137,000 वोटों से मात खानी पड़ी है.

राज्य में बीजेपी नीतीश कुमार के साथ साझा सरकार चला रही है.

साल 2009 के बाद नीतीश कुमार सरकार को उप चुनाव में मिली ये दूसरी बड़ी हार है.

राष्ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू प्रसाद ने कहा है कि जनता के सामने नीतीश कुमार के प्रगति के नारे की पोल खुल गई है.

इधर महाराष्ट्र के यवतमाल विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस के पास मौजूद सीट फिर से उसके पक्ष में गई. महाराष्ट्र में कांग्रेस की सरकार है.

पश्चिम बंगाल के हावड़ा लोकसभा सीट ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल के पक्ष में बनी रही, तो उत्तर प्रदेश के हांडिया विधान सभा सीट के लिए हुए उप चुनाव में समाजवादी पार्टी के पक्ष वाली सीट फिर से उसी के खाते में गई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार