बिहार: महाराजगंज में 'नीतीश की हार' लगभग तय

Image caption बिहार के महाराजगंज सीट पर लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार की प्रतिष्ठा दांव पर थी.

बिहार के महाराजगंज उपचुनाव में राष्ट्रीय जनता दल के उम्मीदवार प्रभुनाथ सिंह अपने प्रतिद्वंद्वी जदयू नेता और राज्य के वर्तमान शिक्षा मंत्री पीके शाही से लगभग एक लाख मतों से आगे चल रहे हैं.

इस बीच राजद नेता लालू प्रसाद ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि ये जदयू की हार है.

महाराजगंज सीट पर आरजेडी और जदयू दोनों पार्टियों की प्रतिष्ठा दांव पर थी. माना जा रहा है कि इस सीट का नतीजा आगामी लोकसभा चुनाव में राज्य की राजनीतिक दिशा का संकेत हो सकता है.

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव नतीजों को लेकर शुरू से ही आश्वस्त नज़र आ रहे थे. बीबीसी संवाददाता मणिकांत ठाकुर के अनुसार लालू प्रसाद यादव ने कहा था कि महाराजगंज में उनकी पार्टी को समाज के सभी वर्गों का समर्थन प्राप्त है और उनके पार्टी की जीत पक्की है.

वहीं प्रभुनाथ सिंह के खिलाफ खड़े बिहार के शिक्षा मंत्री पीके शाही ने कहा कि उन्हें गठबंधन पार्टियों के स्थानीय दलों से उचित समर्थन नहीं मिला है.

उपचुनाव के प्रचार अभियान में राज्य के दोनों शीर्ष नेता नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी.

महाराजगंज सीट को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सक्रियता को चुनाव प्रेक्षक ‘किसी भी कीमत पर जीत’ जैसी रणनीति मान रहे थे.

वहीं गुजरात में चार विधानसभा और दो लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजों के शुरुआती रुझान में बीजेपी आगे चल रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार