भाजपा-जदयू गठबंधन : आखिरी वार की तैयारी

  • 15 जून 2013
भाजपा-जदयू
Image caption गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की पदोन्नति से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हैं खफ़ा

बिहार की राजधानी पटना में आज जनता दल यूनाईटेड (जदयू) के अध्यक्ष शरद यादव राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पार्टी के प्रमुख नेताओं के साथ विचार-विमर्श करने के लिए देर शाम पहुंच रहे हैं. हालांकि पार्टी की ओर से किसी बैठक की कोई औपचारिक सूचना नहीं दी गई है.

रविवार यानी कल भी पार्टी की बैठक होने की संभावना है जिसमें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ गठबंधन ख़त्म करने संबंधी औपचारिक प्रक्रिया पर विचार-विमर्श होगा सकता है.

सूत्रों के मुताबिक संभावना यह भी है कि रविवार को अगर कोई फ़ैसला नहीं हो पाया तो इसके अगले दिन भी कोई ऐलान किया जा सकता है.

आगामी लोकसभा चुनावों के मद्देनज़र गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को भाजपा की चुनाव प्रचार समिति का प्रमुख बनाए जाने के बाद से ही भाजपा और जदयू के रिश्तों में खटास बढ़ती गई.

बैठकों का दौर

राज्य में दोनों दलों के नेताओं, विधायकों की बैठकों का दौर जारी है. इस बीच राज्य सरकार में शामिल भाजपा के मंत्रियों की ओर से पिछले दो दिनों से सरकारी कामकाज लगभग बंद है.

राज्य के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी भी अपने दफ़्तर नहीं जा रहे हैं.

जदयू ने कहा कि दोनों दलों के बीच कई समस्याएं हैं और उनका समाधान अब 'मुश्किल' हो गया है. पार्टी के वरिष्ठ नेता भी इस मतभेद की बात को खुलकर स्वीकार कर रहे हैं.

Image caption राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी भी पिछले दो दिनों से दफ्तर नहीं जा रहे हैं

भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष मंगल पांडे ने आरोप लगाया है कि जदयू की तरफ से भाजपा के विधायकों को फोड़ने की कोशिश हो रही है. हालांकि जदयू प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने इन आरोपों को निराधार बताया है.

राज्य की 243 सदस्यों वाली बिहार विधानसभा में जदयू के 118 विधायक हैं और चार निर्दलीय विधायकों के समर्थन के ज़रिये जदयू राज्य में सरकार बचाने में कामयाब रह सकती है.

भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में जदयू 17 सालों से शामिल रहा है.

नीतीश कुमार ने भी पत्रकारों से कहा, "परिस्थितियां ऐसी हो गईं हैं कि गठबंधन बनाए रखना अब मुश्किल है." उन्होंने शायराना अंदाज़ में कहा था, "दुआ देते हैं जीने की, दवा करते हैं मरने की. समस्या की दरअसल जड़ यही है.''

सख़्त तेवर

जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता और सांसद शिवानन्द तिवारी ने भी बीबीसी को बताया है कि पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी और राष्ट्रीय परिषद ने दोनों दलों के गठबंधन पर फ़ैसले के लिए शरद यादव और नीतीश कुमार को अधिकृत कर दिया गया है.

तिवारी ने भाजपा पर नरेंद्र मोदी को आगे बढ़ाकर एनडीए गठबंधन से अलग होने के लिए मजबूर करने का आरोप लगाया.

उनका कहना था, ''भाजपा चाहती है कि गठबंधन तोड़ने का आरोप जदयू पर लगे लेकिन सच्चाई कुछ और है. हमने अपनी स्थिति पहले ही स्पष्ट कर दी थी. मोदी के बारे में हमारी राय सबको पता है.''

हालांकि भाजपा के कुछ शीर्ष नेताओं ने जदयू से अनुरोध किया है कि गठबंधन बचाने की कोशिश करें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकतें हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार