फ़ेसबुक को चुनौती देना चाहता है 13 साल का सत्यम

Image caption सत्यम मानते हैं कि उनकी इस कामयाबी में सभी का सहयोग है.

अगर कोई सपना समय से पहले पूरा हो जाए तो इसे आप क्या कहेंगे. सत्यम ने आईआईटी में जाने का सपना देखा था. उनका ये सपना पूरा हो गया है सिर्फ 13 साल की उम्र में.

बिहार के एक किसान परिवार में जन्मे सत्यम कुमार सबसे कम उम्र में आईआईटी-जेईई पास करने वाले छात्र बन गए हैं.

सत्यम का मकसद अब कम्प्यूटर साइंस की पढ़ाई करना और ऐसी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट तैयार करना है, जो फ़ेसबुक और ट्विटर को चुनौती दे सके.

वैसे सत्यम ने पिछले साल ही आईआईटी प्रवेश परीक्षा पास करने का कारनामा कर दिखाया था. तब वो 12 साल के थे, लेकिन तब उनका रैंक काफी कम आया था. इस साल उन्होंने फिर से प्रवेश परीक्षा में बैठने का फैसला किया.

इस साल की संयुक्त प्रवेश परीक्षा में सत्यम को 679वां रैंक मिला.

पढ़िए सत्यम की पहली कामयाबी के बारे में

कामयाबी का सफर

बीबीसी से बातचीत में सत्यम ने बताया कि उन्हें 12वीं की परीक्षा और आईआईटी-जेईई पास करने में कोई दिक्कत नहीं हुई, लेकिन इन परीक्षाओं में बैठने की इजाज़त लेनी पड़ी.

सत्यम सन 2007 में ही पढ़ाई के लिए कोटा आ गए थे. वहां उन्होंने मॉडर्न सीनियर सेकेंड्री स्कूल में प्रवेश लिया.

सत्यम बताते हैं कि, “मुझे तो कम्प्यूटर साइंस से इंजीनियरिंग करनी है और उसके बाद फ़ेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट बनानी है और टेक्नोक्रैट के फ़ील्ड में मुझे ऊंचाई तक पहुंचना है.”

सत्यम ख़ुद को बाकी बच्चों की तरह ही मानते हैं. वो कहते हैं, “यह सही है कि मैं अपने साथियों के मुकाबले उम्र में छोटा हूँ, लेकिन बाकी तो उन्हीं की तरह हूँ.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकतें हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार