बलात्कार पीड़िता को ख़ामोश करने की कोशिश: पुलिस

rape
Image caption बलात्कार की शिकार युवती को 24 जुलाई को अदालत में बयान दर्ज करवाने हैं

उत्तर प्रदेश पुलिस का कहना है कि प्रतापगढ़ ज़िले में बलात्कार की शिकार एक युवती को अदालत जाकर बयान देने से रोकने के लिए उस पर हमला कर उसे घायल कर दिया गया है.

ज़िले के पुलिस अधीक्षक एल आर कुमार ने बीबीसी को बताया, "मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक युवती की जीभ में चोट है जो किसी भोंथरे हथियार के कारण आई लगती है. इस सिलसिले में एक व्यक्ति को गिरफ़्तार कर लिया गया है".

दूसरे अभियुक्त को पुलिस तलाश कर रही है.

युवती को 24 जुलाई को अदालत के सामने पेश होकर बलात्कार के मामले में बयान दर्ज करवाना है.

बलात्कार अभियुक्त जेल में

पुलिस ने कहा है कि उसे बयान देने से रोकने के लिए उस पर हमला किया गया. पर अधिकारियों का कहना है कि युवती की स्थिति ठीक है और वो 24 जुलाई को अदालत जाएगी.

प्रतापगढ़ के एसपी एलआर कुमार ने बीबीसी से बातचीत में कहा कि हमले के बाद डॉक्टरों के एक पैनल ने पीड़िता का मेडिकल किया है.

पीड़िता की जीभ पर चोट लगी है लेकिन ये साफ़ नहीं है कि चोट मारपीट के दौरान लगी है या उसकी जीभ काटने की कोशिश की गई है.

पीड़िता की ओर से दर्ज करवाई गई पुलिस रिपोर्ट में कहा गया है कि दो लोगों ने उन पर हमला किया था.

उन्होंने यह भी कहा कि पीड़िता को पुलिस सुरक्षा दी जा रही है और 24 तारीख को उनका बयान दिलवाया जाएगा.

पिछले साल दिसंबर महीने में इस नाबालिग लड़की के साथ गांव के ही एक युवक ने कथित तौर पर बलात्कार किया था.

परिवार थाने के चक्कर काटता रहा और काफ़ी दौड़भाग के बाद 22 जनवरी को पुलिस ने आरोपी के विरुद्ध बलात्कार का मामला दर्ज किया.

पुलिस ने लवलेश नाम के इस युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार