भारत के कार बाजार में फिर आई निसान की डैटसन

निसान
Image caption डटसन को नए अवतार में भारतीय बाज़ार में लाँच किया गया है.

जापान की कार निर्माता कंपनी निसान ने कभी बेहद लोकप्रिय रहे अपने ब्रांड ‘डैटसन’ को नए अवतार में भारतीय बाज़ार में लॉन्च किया है.

1970 के दशक में कम ऊर्जा खपत वाली डैटसन को दुनियाभर में लोगों ने हाथों-हाथ लिया था. लेकिन कंपनी ने 30 साल पहले अपने इस ब्रांड का उत्पादन बंद कर दिया था.

सोमवार को कंपनी ने भारत में इस कार के नए मॉडल को उतारा. भारत में इस कार की बिक्री अगले साल से शुरू होगी और इसकी कीमत चार लाख रुपए यानी क़रीब 6,670 डॉलर से कम रखी गई है.

कंपनी ने कहा कि इस कार को इंडोनेशिया और रूस में भी बेचा जाएगा.

पहली डैट-कार 1914 में लॉन्च की गई थी. इसका नाम कंपनी के तीन निवेशकों के नाम के शुरुआती अक्षरों को जोड़कर बनाया गया था जिसका अर्थ है ‘बिजली की तेज़ कड़क’.

इतिहास

दुनिया के 190 देशों में डैटसन ब्रांड की दो करोड़ से अधिक कारें बेचने के बाद कंपनी ने 1981 में इस ब्रांड को बंद कर दिया था.

भारत में नई 'डैटसन गो' को लॉन्च करते हुए रेनॉ-निसान के मुख्य कार्यकारी कार्लोस घोसन ने कहा, “डैटसन वापस आ गई है. डैटसन कार मालिक बनने के कई लोगों के सपने को पूरा करेगी.”

अधिकांश कार निर्माताओं की तरह यूरोप और अमरीका के बाज़ारों में निसान की स्थिति भी कमजोर हो रही है और यही वजह है कि वो उभरती अर्थव्यवस्थाओं पर अपना ध्यान केंद्रित कर रही है.

हालांकि डैटसन को भारतीय बाज़ार में पेश करने के लिए फ़िलहाल आदर्श स्थिति नहीं है. सोसायटी फॉर इंडियन ऑटोमोबाइल्स मैन्यूफैक्चरर्स (सियाम) के मुताबिक पिछले साल की तुलना में इस साल की दूसरी तिमाही में कारों की बिक्री दस प्रतिशत गिर गई है.

अर्थव्यवस्था की धीमी गति और ऊंची ब्याज दरों के कारण लोग कार खरीदने से कतरा रहे हैं.

लक्ष्य

Image caption 1970 के दशक में डटसन बेहद लोकप्रिय थी

लेकिन निसान को उम्मीद है कि निसान, इनफिनिटी और डैटसन जैसे उसकी कारें मिलकर साल 2016 तक भारत में दस प्रतिशत कार बाज़ार कब्जा कर लेंगी.

सियाम के मुताबिक पिछले साल भारत में 18.9 लाख कारें बिकी थीं जिनमें निसान की हिस्सेदारी दो प्रतिशत से कम थी. भारतीय बाज़ार में मारुति पर अधिकार रखने वाली सुजुकी का दबदबा है.

नई डैटसन को चेन्नई में रेनॉ-निसान के प्लांट में एसेंबल किया जाएगा.

घोसन ने कहा कि अगर भारत, रूस और इंडोनेशिया में ये ब्रांड सफल हुआ तो फिर कंपनी इसे मध्य पूर्व और दक्षिण अमरीका में भी उतारेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार