झारखंड में हेमंत सोरेन ने विश्वासमत जीता

  • 18 जुलाई 2013
हेमंत सोरेन
Image caption हेमंत सोरेन ने 13 जुलाई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी.

झारखंड के नवनियुक्त मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने विधानसभा में विश्वासमत हासिल कर लिया है. सोरेन ने गुरुवार को सदन में विश्वासमत प्रस्ताव पेश किया. इसके बाद विश्वासमत पर चर्चा कराई गई.

सरकार के पक्ष में 43 और विपक्ष में 37 वोट पड़े.

विपक्ष से एक विधायक सदन में अनुपस्थित रहे. बाबूलाल मरांडी की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा ने विधायक के इस रवैए पर कार्रवाई करते हुए उन्हें निलंबित कर दिया है.

विधानसभा में विश्वासमत हासिल करने के बाद हेमंत सोरेन ने विकास के लिए सभी का सहयोग माँगते हुए कहा कि नौजवानों के बिना विकास असंभव है. उनकी सरकार अब 16 महीने का कार्यकाल पूरा करेगी.

हेमंत सोरेन ने कांग्रेस, राजद और निर्दलीयों के समर्थन से सरकार बनाई है. सरकार में झामुमो के 18, कांग्रेस के 13, राजद के पांच, मासस के एक और छह निर्दलीय विधायक शामिल हैं. भाजपा के 17, आजसू के छह, जदयू के दो , भाकपा माले के एक और एक मनोनीत विधायक ने विश्वासमत के विरोध में वोट दिया.

मटन पकाते हैं शाकाहारी सोरेन

पिछले नौ जुलाई को हेमंत सोरेन ने 43 विधायकों का समर्थन पत्र लेकर राज्यपाल के समक्ष सरकार बनाने का दावा पेश किया था. 13 जुलाई को उन्होनें मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. हेमंत सोरेन के साथ कांग्रेस के राजेंद्र प्रसाद सिंह और राजद की अन्नपूर्णा देवी ने भी मंत्री पद की शपथ ली थी.

हालाँकि हेमंत सोरेन ने अभी मंत्रिमंडल का पूरा विस्तार नहीं किया है. सरकार में मुख्यमंत्री समेत 12 मंत्रियों का आकार निर्धारित है. गठबंधन की सरकार चलाने के लिए जो फार्मूला तय किया गया है, उसके मुताबिक कांग्रेस के पांच, झामुमो के पांच ( मुख्यमंत्री समेत) और राजद के दो मंत्री होंगे.

गठबंधन

पिछले सात जनवरी को झामुमो ने भाजपा से समर्थन वापस लिया था. तब भाजपा के अर्जुन मुंडा मुख्यमंत्री थे. सरकार में आजसू पार्टी के छह और जदयू के दो विधायक भी शामिल थे.

झामुमो के समर्थन वापसी के बाद राज्य में 17 जनवरी को राष्ट्रपति शासन लागू हुआ था.

इसके बाद कांग्रेस ने झामुमो के साथ सरकार बनाने की पहल की. हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री बनाया गया. लोकसभा चुनाव में झारखंड की 14 सीटों में कांग्रेस दस और झामुमो चार सीटों पर चुनाव लड़ेंगी.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार