तेलंगाना का विरोध, 15 मंत्रियों के इस्तीफ़े

  • 1 अगस्त 2013

अलग तेलंगाना राज्य बनाने के कांग्रेस के फ़ैसले के खिलाफ आंध्र प्रदेश में राजनीतिक उथल-पुथल जारी है.

तेलंगाना के प्रस्तावित गठन के खिलाफ तटीय आंध्र और रायलसीमा क्षेत्र से राज्य सरकार के 15 मंत्रियों ने इस्तीफा देने का एलान किया है.

हैदराबाद में एक बैठक के बाद लघु सिंचाई मंत्री टीजी वेंकटेश ने पत्रकारों को बताया कि 15 मंत्री अपने इस्तीफे मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी को सौंपेंगे.

बैठक में 26 विधायक और 10 एमएलसी भी थे. इनमें से 11 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है. इन्हें मिलाकर बीते एक हफ्ते में 37 विधायकों ने इस्तीफे दिए हैं. टीजी वेंकटेश ने पत्रकारों से कहा कि उनकी मांग है कि कांग्रेस कार्यसमिति अलग तेलंगाना बनाने के फैसले पर पुनर्विचार करे.

एक मंत्री जी श्रीनिवास राव पहले इस्तीफा दे चुके हैं.

इनके अलावा कांग्रेस के गुंटूर से सांसद आर संबाशिवराव ने 30 जुलाई को अपना इस्तीफा भिजवाया था.

शांति की अपील

अलग तेलंगाना के खिलाफ 24 विधायक भी पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं जिनमें 16 वाईएसआर कांग्रेस के, सात कांग्रेस के और 1 तेलुगुदेशम के हैं.

तेलंगाना राष्ट्र समिति ने बुधवार को मेडक की सांसद विजयाशांति को पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में निलंबित कर दिया था. माना जा रहा है कि विजयाशांति कांग्रेस में शामिल हो सकती हैं.

सीमांध्र के बड़े शहरों में गुरुवार को भी विरोध प्रदर्शन जारी रहे जिसके बाद सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

तटीय आंध्र और रायलसीमा में गुरुवार को दूसरे दिन भी बंद रहा. विजयानगरम में तेलंगाना के विरोधियों ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बी सत्यनारायण के घर का घेराव किया.

श्रीकाकुलम के टेक्काली में केंद्रीय संचार राज्य मंत्री कृपा रानी के घर का भी घेराव किया गया.

उधर मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी ने पुलिस अफसरों के साथ बैठक की. उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार