किश्तवाड़ झड़पों में दो की मौत, इलाके में कर्फ्यू

  • 10 अगस्त 2013
Image caption किश्तवाड़ घटना के विरोध में भाजपा ने जम्मू में प्रदर्शन किया.

जम्मू के किश्तवाड़ ज़िले में शुक्रवार को दो समुदायों के बीच हुई झड़पों में दो लोगों की मौत हो गई है और वहाँ कर्फ्यू लगा दिया गया है.

श्रीनगर में मौजूद बीबीसी संवाददाता रियाज़ मसरूर ने बताया है कि घटना ईद की सुबह उस वक्त हुई जब इलाके के मुसलमान नमाज़ पढ़ने ईदगाहों और मस्जिदों की तरफ़ जा रहे थे.

रियाज़ के अनुसार कुछ जगहों पर हिंदू लड़कों ने कथित तौर पर मुसलमानों पर पत्थर फेंके और फिकरे कसे जिससे वो नाराज़ हो गए. नमाज़ के बाद जब मुसलमान लड़के उस इलाके से दोबारा निकले तब वो एक जुलूस में तब्दील हो चुके थे और उनकी तरफ़ से बहुत ज़्यादा प्रतिक्रिया हुई.

इस जुलूस ने कई दुकानें जलाईं या लूटीं.

बीबीसी संवाददाता के अनुसार करीब 100 दुकानों को नुकसान पहुँचा है और जुलूस ने कुछ गाड़ियों को भी आग लगा दी.

हालात पर क़ाबू पाने के लिए प्रशासन ने सेना बुला ली है लेकिन सेना की तैनाती नहीं की गई और सिर्फ़ कर्फ्यू लागू करने के लिए उसकी मदद ली गई है. ईद की वजह से सांप्रदायिक झड़पों को रोकने के लिए कर्फ्यू सख़्ती से लागू किया गया है.

राज्य सरकार ने मामले की जाँच के आदेश दे दिए हैं.

श्रीनगर में भी असर

इस घटना का असर किश्तवाड़ में ही नहीं बल्कि कश्मीर घाटी के कई ज़िलों और ख़ासकर श्रीनगर में भी दिखा.

शुक्रवार को श्रीनगर में प्रदर्शन हुए जिनमें दो पुलिस अधिकारी और कई नागरिक घायल हो गए थे.

रियाज़ मसरूर का कहना है कि श्रीनगर में सुरक्षा इंतज़ाम कड़े कर दिए गए हैं. काफ़ी तादाद में सुरक्षाबलों और पुलिस को संवेदनशील इलाकों में तैनात किया गया है ताकि प्रर्दशन न हों.

हड़ताल का ऐलान

किश्तवाड़ हादसे के विरोध में शनिवार को हुर्रियत कॉन्फ्रैंस ने पूरी घाटी में हड़ताल का ऐलान किया है.

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक पार्टी के नेता सैयद अली गिलानी का आरोप है कि जब हिंदू समुदाय के लोग कथित तौर पर पत्थर फेंक रहे थे और फिकरे कस रहे थे तब प्रशासन खामोश रहा लेकिन जब मुसलमानों की ओर से प्रतिक्रिया हुई तभी प्रशासन हरक़त में आया जिसकी वजह से कई लोग घायल हो गए.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार भारतीय जनता पार्टी ने भी शनिवार को जम्मू में बंद का आह्वान किया है.

पार्टी के राज्य अध्यक्ष जुगल किशोर शर्मा ने जम्मू में शुक्रवार को पत्रकारों को बताया कि बंद "सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं और किश्तवाड़ में अल्पसंख्यक समुदाय की सुरक्षा सुनिश्चित करने में सरकार की नाकामी के विरोध में'' बुलाया गया है.

राजनीतिक प्रतिक्रिया

उधर भारतीय जनता पार्टी ने इस घटना पर चिंता जताई है.

पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने ट्विटर पर लिखा है, "मैंने इस बारे में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से फोन पर बात की है. प्रधान मंत्री ने मुझे आश्वासन दिया है कि वहां हालात जल्द ही काबू में आ जाएँगे क्योंकि किश्तवाड़ में सेना बुला ली गई है."

भाजपा नेता सुषमा स्वराज ने भी टिवटर पर लिखा है कि जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने उन्हें फ़ोन करके बताया है कि किश्तवाड़ में और बल पहुँच रहे हैं और फ्लैग मार्च हुआ है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार