बातचीत के लिए उपयुक्त माहौल नहीं: भारत

Image caption भारत-पाकिस्तान सीमा पर तनाव का माहौल

भारत ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के मित्रता की पेशकश को स्वीकार करते हुए कहा है कि उन्हें पाकिस्तान की जमीन पर चरमपंथियों को पनाह देना बंद करना होगा.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि पाकिस्तान को नियंत्रण रेखा का सम्मान करना चाहिए और अपने देश के अंदर मौजूद चरमपंथियों के ढांचे को नष्ट करना चाहिए और 26/11 के मुंबई हमले में न्याय करना चाहिए.

पुंछ के इलाक़े में पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा भारत के पांच सैनिकों की हत्याके मामले को ध्यान में रखते हुए भारत ने कहा है कि सचिव स्तर की बातचीत के लिए बेहतर माहौल की ज़रूरत है.

अकबरुद्दीन ने कहा है, “हमें पाकिस्तान की ओर से सचिव स्तर की बातचीत का न्यौता मिला है, लेकिन शांतिपूर्ण बातचीत के लिए हमें दोस्ताना माहौल की ज़रूरत है. पिछले सप्ताह जो घटना हुई है वह दोस्ताना बातचीत के लिए ठीक नहीं है.”

भारत का दावा है कि मंगलवार की सुबह पाकिस्तान की ओर से रामगढ़ सेक्टर पर भारतीय चौकी पर फ़ायरिंग हुई है.

हालांकि पाकिस्तान लगातार इस तरह की फ़ायरिंग से इनकार कर रहा है. पाकिस्तान ने भारत के डिप्टी हाई कमिश्नर को तलब करके भारतीय सेना पर युद्धविराम के उल्लंघन करने का आरोप लगाया है.

पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर घट रही घटनाओं की जांच संयुक्त राष्ट्र से कराने की मांग की है. संयुक्त राष्ट्र के महासचिव अगले सप्ताह पाकिस्तान का दौरा करने वाले हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार