लोकसभा में 'पाकिस्तान की निंदा वाला प्रस्ताव' पारित

संघर्षविराम के उल्लंघन पर बढ़ा तनाव
Image caption हाल के दिनों में नियंत्रण रेखा पर तनाव बढ़ गया है

भारतीय संसद के निचले सदन लोकसभा में 'पाकिस्तान की निंदा' वाला एक प्रस्ताव पारित किया गया है. प्रस्ताव में भारत पर संघर्षविराम के उल्लंघन के पाकिस्तान के आरोपों की निंदा की गई है.

ये प्रस्ताव पाकिस्तानी संसद में भारत के खिलाफ पारित एक प्रस्ताव के बाद पेश किया गया जिसे लोकसभा सांसदों ने आमराय से पारित किया है.

पाकिस्तानी प्रस्ताव में भारत पर नियंत्रण रेखा पर 'बिना किसी उकसावे के आक्रमण' का आरोप लगाया गया था.

बुधवार को लोकसभा की स्पीकर मीरा कुमार ने पाकिस्तान विरोधी प्रस्ताव पेश करते हुए पाकिस्तानी संसद में पारित प्रस्ताव की निंदा की और कहा कि इसमें भारत और उसके लोगों पर बेबुनियाद आरोप लगाए गए हैं.

मीरा कुमार ने कहा, “पाकिस्तान की सेना ने बिना उकसावे भारतीय चौकी पर हमला किया गया और ये दुर्भाग्य की बात है कि पाकिस्तान इस तरह के हमले में शामिल है.”

भारतीय सेना का कहना है कि पिछले दिनों 'नियंत्रण रेखा पर हमला कर पाकिस्तानी सेना ने पांच भारतीय सैनिकों की हत्या कर दी.'

पाकिस्तान की आलोचना

हाल के दिनों में दोनों देश एक दूसरे पर नियंत्रण रेखा पर 2003 से लागू संघर्षविराम के उल्लंघन के आरोप लगाते रहे हैं.

पांच भारतीय सैनिकों की मौत पर जहां भारत में काफी गुस्सा है, वहीं सोमवार को इस्लामाबाद में भारत के उप उच्चायुक्त को पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय में बुला कर विरोध जताया गया. पाकिस्तान का कहना है कि सोमवार तड़के हुए भारतीय सेना के हमले में उसके एक नागरिक की मौत हो गई.

मीरा कुमार ने आरोप लगाया कि पाकिस्तान ऐसे गुटों को समर्थन देता है जो भारत को निशाना बनाते हैं और इससे पूरे क्षेत्र की शांति को खतरा पैदा होता है.

उन्होंने कहा कि भारत नियंत्रण रेखा पर लागू संघर्षविराम पर अमल कर रहा है और पाकिस्तान को भी ऐसा ही करना चाहिए.

लोकसभा में नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी में मारे गए पांच सैनिकों को श्रद्धांजलि दी गई. मीरा कुमार ने कहा कि भारतीय सेना के संयम को उसकी कमजोरी न समझा जाए और वो अपनी सीमाओं की सुरक्षा में पूरी तरह सक्षम है.

'पाकिस्तान की निंदा' वाला प्रस्ताव पारित होने के बाद लोकसभा की कार्यवाही सोमवार 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार